भुना सकी तो भाजपा के लिए गेम चेंजर हो सकता है पुलवामा कांड

0
227
  • राणा अमरेश सिंह

नयी दिल्ली। पुलवामा आतंकी हमला प्रकरण भाजपा के लिए गेम चेंजर साबित हो सकता है, बशर्ते कि वह जनभावना को देखते हुए माकूल कदम उठाये। पूरे देश में इस घटना को लेकर उबाल है और लोगों का यह मानना भी है कि मोदी जरूर कोई सख्त कदम उठायेंगे। प्रधानमंत्री मोदी के आतंकियों व पाकिस्तान विरोधी बयान देश भर में खाद-पानी देने का काम कर रहे हैं। जन उबाल से प्रधानमंत्री मोदी पर लगातार कड़ी कार्रवाई का दबाव बढ़ रहा है और विपक्ष भी उनके साथ खड़ा है। सोमवार को भारतीय सुरक्षा बलों ने पुलवामा कांड के मास्टर माइंड और जैश ए मोहम्मद के कमांडर कामरान और उसके साथी बिलाल को मार गिराया। इससे पुलवामा कांड से गुस्साये लोगों को थोड़ा सुकून मिला है। यह अलग बात है कि इस मुठभेड़ में मेजर समेत चार जवान शहीद हो गये।

हिन्दुस्तान के सियासी जगत में हर दल आजकल एक सवाल से परेशान है। यह कि कहीं पुलवामा का आतंकी हमला भाजपा के लिये गेम चेंजर न बन जाये! आगामी लोकसभा चुनाव से पहले उठे आयोध्या में राम मंदिर के मुद्दे की सुप्रीम कोर्ट ने हवा निकाल दी। बची-खुची कसर भाजपा के सहयोगी जदयू ने पूरी कर दी। जदयू ने राम मंदिर पर अध्यादेश लाने की भाजपा की  कोशिश पर यह कह कर पानी फेर दिया कि इस पर वह भाजपा का साथ नहीं देगा। ऐसे में भाजपा के पास कोई भावनात्मक मुद्दा नहीं था, जिसके सहारे वह मैदान फतह करने का दावा कर सके।

- Advertisement -

महागठबंधन की रस्साकशी से घिरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असहज, परंतु आक्रमक दिख रहे थे। पुलवामा में हुए आतंकी हमले से उपजे देश भर में गुस्से ने उन्हें अपने को साबित करने का एक मौका दे दिया है। आजकल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई प्रदेशों में विकास योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास कर रहे हैं। इस मौके पर आयोजित रैली में आतंकी हमले का जिक्र करना वह नहीं भूलते। कभी युवाओं के सीने की आग तो कभी आंखों के आंसुओं की चर्चा कर के वे लोगों को मोटिवेट करते दिख रहे हैं।

आतंकी हमले में मारे गये तीन दर्जन जवानों को लेकर देश भर में गुस्सा व गम है। छोटे-बड़े हर शहर में 14 फरवरी के बाद शहीदों के खातिर श्रद्धांजलि सभा आयोजित हो रही है। कैंडिल मार्च निकाले जा रहे हैं। कैंडिल मार्च में शामिल युवा भारत माता की जय और पाकिस्तान विरोधी नारे लगाते हैं। इसमें हर समुदाय के युवा शिरकत करते हैं। इससे भाजपा के हौसले बुलंद हैं। भाजपा के फायर ब्रांड नेताओं की जुबानी गोलाबारी ने पाकिस्तान विरोधी जबरदश्त माहौल बना दिया है। ऐसी स्थिति में विरोधी दल देश के सेंटीमेंट को भांपते हुए सरकार के साथ खड़े होने का दावा करते नजर आ रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी के आतंकियों व पाकिस्तान विरोधी बयान देश भर में खाद-पानी देने का काम कर रहे हैं। जन उबाल से प्रधानमंत्री मोदी पर लगातार कड़ी कार्रवाई का दबाव बढ़ रहा है और विपक्ष भी उसके साथ खड़ा है। इसलिए मोदी सरकार भी ऐक्शन में दिख रही है। कूटनीतिक कसरत एक तरफ हो रही है तो दूसरी ओर सुरक्षा बल के जवान फार्म में दिखने लगे हैं। अगर सरकार पाकिस्तान या आतंकवादियों के खिलाफ कोई बड़ा कदम उठाने में कामयाब हो जाती है तो यह भाजपा के लिए संजीवनी साबित होगी। 2019 मोदी के लिए 2014 की तरह आसान हो जायेगा।

यह भी पढ़ेंः

काश, हर साल चुनाव होते! होने लगी है वादों-सौगातें की बरसात

शहीदों को श्रद्धांजलिः ऐ मेरे वतन के लोगों जरा याद करो कुर्बानी

मुलायम ने नमो के बारे में वही कहा, जो महसूस कियाः सुशील मोदी

माया-अखिलेश को अब समझ में आयी प्रियंका गांधी की अहमियत

पशुपालन से आय को बढ़ावा देने की बिहार सरकार ने बनायी योजना 

‘तरकारी’ ब्रांड को प्रमोट कर सब्जी उत्पादन बढ़ाने में जुटी बिहार सरकार

- Advertisement -