बिहार के शहीद सपूतों के परिजनों को मिलेंगे 36-36 लाख रुपये

0
252

शहीदों के शव पर पुष्प-चक्र चढ़ाने के बाद नीतीश ने की घोषणा

  • 11 लाख के साथ ही मुख्यमंत्री राहत कोष से दिये जायेंगे 25 लाख रुपये
  • इसके अलावा भी दी हर तरह की सहायता का सीएम ने दिया आश्वासन

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि शहीदों के परिजनों को राज्य सरकार से मिलने वाली 11 लाख रुपये की राशि के अलावा मुख्यमंत्री राहत कोष से 25 लाख रुपये सहायता के रूप में दिये जाएंगे। इसके अलावा अन्य जरूरी आवश्यकताओं की पूर्ति में भी हर तरह का सहयोग किया जाएगा। शनिवार को वह पटना स्थित जय प्रकाश नारायण हवाई अड्डे पर पुलवामा आतंकवादी हमले में शहीद बिहार के निवासी सीआरपीएफ के हवलदार संजय कुमार सिन्हा एवं शहीद सिपाही रतन कुमार ठाकुर के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि देने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि इस आतंकवादी घटना का जवाब जरूर मिलेगा। पूरा देश एकजुट है। पत्रकारों के एक प्रश्न पर कि पाकिस्तान आतंकवादी घटना को हवा दे रहा है, मुख्यमंत्री ने कहा कि ये जगजाहिर है कि वहाँ आतंकवादी संगठनों को सहयोग एवं सहारा मिलता है। वे आतंकवादी गतिविधियों से दुनिया को विनष्ट करने की कोशिश कर रहे हैं।

- Advertisement -

यह भी पढ़ेंः पशुपालन से आय को बढ़ावा देने की बिहार सरकार ने बनायी योजना 

यह भी पढ़ेंः ‘तरकारी’ ब्रांड को प्रमोट कर सब्जी उत्पादन बढ़ाने में जुटी बिहार सरकार

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस तरह की किसी घटना को बर्दाश्त करने वाली बात नहीं है। हमारे बिहार के दो जवान शहीद हुए हैं एवं एक घायल भी हुआ है। जो जवान शहीद हुए हैं, हम उनके परिवार के लिए जो भी जरूरी है, वो करेंगे। राज्य सरकार की तरफ से जो स्कीम है, उसे और बढ़ा कर बच्चों के पढ़ने के लिए एवं परिवार की जो अन्य आवश्यकताएं हैं, उसको पूरा करने के लिए पहल करेंगे। दोनों जिलों के जिलाधिकारी से कह दिया गया है कि वे उनके परिजनों से मिल कर उनकी आवश्यकताओं जैसे पढाई-लिखाई, शादी-विवाह एवं अन्य जरूरतों की जानकारी लें, जिसमें हम सब सहयोग करेंगे।

यह भी पढ़ेंः संबंध बनाया, फिर युवती को गला रेत कर मार डाला

यह भी पढ़ेंः बिहार सर्वाधिक रोजगार पैदा करने वाला राज्य बना, सुशील मोदी का दावा

उन्होंने कहा कि पहले से जो बना नियम है, उसके अलावा भी सब कुछ किया जाएगा। राज्य सरकार की तरफ से एवं मुख्यमंत्री राहत कोष से भी मदद की जायेगी। आज ही सुबह मुख्य सचिव एवं अपर मुख्य सचिव गृह विभाग से इस संबंध में बात हुई है। जिलाधिकारी को भी इस संबंध में निर्देश दिया गया है। सिर्फ सरकार ही नहीं, बल्कि पूरे राज्यवासी शहीद के परिजनों के साथ हैं। पत्रकारों के प्रश्न कि क्या सर्जिकल स्ट्राइक जैसे अन्य कदम उठाने चाहिए, के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि कड़े कदम तो जरूर उठाने ही होंगे। इसके जवाब में कौन-सा कदम उपयुक्त होगा, यह तो निर्णय लेना केंद्र का काम है, लेकिन इसका जवाब तो मिलेगा।

यह भी पढ़ेंः प्रधानमंत्री बरौनी से बिहार की कई परियोजनाओं की रखेंगे नींव

यह भी पढ़ेंः काश, हर साल चुनाव होते! होने लगी है वादों-सौगातें की बरसात

कश्मीरी अलगाववादियों से सम्बंधित प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि इन सब चीजों को भी देखने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ऐसी घटना पूर्व में नहीं घटी थी। इस घटना के बाद जिस तरह देश के लोगों का मिजाज है, उसके हिसाब से जबर्दश्त कार्रवाई करनी होगी। हवाई अड्डा पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, केन्द्रीय मंत्री राम कृपाल यादव, पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे, शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन वर्मा, सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह, कृषि मंत्री प्रेम कुमार, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सीपी ठाकुर, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, राज्य सभा सांसद आरके सिन्हा, राजद प्रदेश अध्यक्ष राम चन्द्र पूर्वे सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय, अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी, अपर पुलिस महानिदेशक जेएस गंगवार, आईजी पटना प्रमंडल सुनील कुमार, डीआईजी पटना प्रमंडल राजेश कुमार, जिलाधिकारी कुमार रवि, वरीय पुलिस अधीक्षक मती गरिमा मलिक सहित अन्य वरीय पदाधिकारी, वायुसेना, एसएसबी एवं सीआरपीएफ के वरीय पदाधिकारीगण ने भी अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि दी।

यह भी पढ़ेंः शहीदों को श्रद्धांजलिः ऐ मेरे वतन के लोगों जरा याद करो कुर्बानी

- Advertisement -