नेतरहाट की तर्ज पर झारखंड में बनेंगे और स्कूल, सीएम का निर्देश

0
221

रांची। मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने नेतरहाट आवासीय विद्यालय की तर्ज पर प्रस्तावित आवासीय विद्यालय का प्रेजेंटेशन देखा और यथाशीघ्र काम शुरू करने का निर्देश दिया। पीएमसीएच व एमजीएम में नियुक्तियों के आदेश भी दिये। बैठक में मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, अपर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह,प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल उपस्थित थे। रांची के बेड़ो, चाईबासा के खूंटपानी और दुमका के मसलिया में नेतरहाट आवासीय विद्यालय की तर्ज पर प्रस्तावित आवासीय विद्यालय का उन्होंने प्रेजेंटेशन देखा और यथाशीघ्र काम शुरू करने का निर्देश दिया।

भवन निर्माण विभाग द्वारा बताया गया कि बेड़ो में 15 एकड़ में, खूंटपानी में 36 एकड़ में और मसलिया में 25 एकड़ भूमि में आवासीय विद्यालय बनाया जाएगा। यहां कक्षा 6 से 12 तक की पढ़ाई होगी। प्रत्येक कक्षा में 100-100  छात्र होंगे। बेड़ो में छात्राओं के लिए तथा खूंटपानी और मसलिया में छात्रों के लिए आवासीय विद्यालय बनाया जाएगा। कैंपस में ही आवासीय स्कूल के साथ-साथ प्रशासनिक भवन, बच्चों तथा शिक्षकों के रहने के लिए हॉस्टल, खेल मैदान आदि की व्यवस्था रहेगी। कैंपस में ही किचन और डायनिंग हॉल, लाइब्रेरी, गेस्ट हाउस, इंडोर स्पोर्ट्स कंपलेक्स, हेल्थ सेंटर आदि भी रहेंगे।

- Advertisement -

मुख्यमंत्री ने इस काम को यथाशीघ्र शुरू करने का निर्देश देते हुए कहा कि यहां दलित, आदिवासी व पिछड़े समाज के बच्चों को प्राथमिकता दें, ताकि उन्हें हम गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की मुख्यधारा में ला सकें। ये विद्यालय इसी सामाजिक जिम्मेदारी को निभाने के लिए शुरू किये जा रहे हैं।

बैठक में मुख्य सचिव श्री सुधीर त्रिपाठी, वित्त विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री सुखदेव सिंह, प्रधान सचिव शिक्षा विभाग श्री एपी सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल,  सचिव भवन निर्माण विभाग श्री सुनील कुमार सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

एमजीएम और पीएमसीएच के रिक्त पदों पर जल्द नियुक्ति प्रक्रिया प्रारंभ करें

मुख्यमंत्री ने जमशेदपुर स्थित एमजीएम और धनबाद स्थित पीएमसीएच में मैन पावर बढ़ाने की दिशा में तेजी से कार्य करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि जो भी रिक्तियां हैं, उसके एवज में भर्ती की प्रक्रिया जल्द से जल्द शुरू की जाए। इसके अलावा प्रबंधन के काम से चिकित्सकों को अलग करें। प्रोफेशनल लोगों की भर्ती करें, ताकि निजी अस्पतालों की तर्ज पर सरकारी अस्पतालों में भी प्रबंधन चले। चिकित्सक के राउंड के दौरान मरीज के साथ एक से अधिक अटेंडेंट न हो। इसे भी कड़ाई से लागू किया जाए। व्यवस्था बनी रहेगी तो मरीजों को ही आसानी होगी। मरीजों के परिजनों के लिए कार्ड जारी करें, ताकि बेवजह की भीड़ से बचा जा सके। उक्त निर्देश मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने आज झारखण्ड मंत्रालय में एमजीएम और पीएमसीएच की समस्याओं से संबंधित बैठक में दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी अस्पताल में गरीब इलाज कराने आते हैं। उनका इलाज भी सही तरीके से हो, ये हमारा लक्ष्य है। अस्पतालों को बेहतर बनाने में पैसे की कमी को आड़े नहीं आने दिया जाएगा। बैठक में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री रामचन्द्र चंद्रवंशी, खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले के मंत्री सरयू राय, मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, वित्त विभाग के अपर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव एपी सिंह, स्वास्थ्य विभाग के सचिव नितिन मदन कुलकर्णी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

- Advertisement -