आतंकवाद को बढ़ावा देने वाला है कांग्रेस का घोषणापत्र: राजीव रंजन

0
180
कांग्रेस का घोषणापत्र

पटना कांग्रेस का घोषणापत्र आतंकवाद को बढ़ावा देने वाला है। यह कांग्रेस की नासमझी और देश विरोधी मानसिकता का जीवंत सबूत है। यह कहना है भाजपा प्रवक्ता राजीव रंजन का। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता सह पिछड़ा नेता राजीव रंजन ने कहा कि कांग्रेस द्वारा कल घोषित चुनावी मेनिफेस्टो देश के लिए कई मायने में बेहद खतरनाक है। इसमें किए वादों को देख कर एकबारगी विश्वास ही नहीं होता कि यह भारत के किसी राजनीतिक दल का घोषणापत्र है, बल्कि ऐसा प्रतीत होता है कि इसे देश के ‘टुकड़े-टुकड़े करने’ का सपना देखने वालों ने तैयार किया है।

इस घोषणा पत्र को देखें तो कांग्रेस ने जम्मू-कश्मीर के लिए पूरा पेज लिख दिया है, लेकिन कश्मीरी पंडित और 84 के दंगा पीड़ित सिखों के लिए उनके पास एक लाइन तक नही है। दूसरी तरफ इस मेनिफेस्टों में कांग्रेस ने सरकार बनने पर आतंकियों और पत्थरबाजों पर नियंत्रण रखने के लिए कश्मीर में लागू ‘आफ्सपा’ कानून को कमजोर करने और भारतीय दंड संहिता की धारा 124 A को खत्म करने का वादा भी किया है।

- Advertisement -

यह भी पढ़ेंः अद्भुत प्रतिभा के धनी गणितज्ञ डा. वशिष्ठ नारायण सिंहः  

इस घोषणा पत्र में सेना के अधिकारियों पर किसी सरकारी अनुमति के बिना मामला दर्ज़ होने की भी बात दर्ज है। इसके अलावा कांग्रेस ने इसमें ‘देशद्रोह’ को अपराध की श्रेणी से बाहर रखने और ‘सीआरपीसी’ में बदलाव करने का वायदा भी किया है, जिसका सीधा लाभ माओवादियों और जेहादियों को मिलेगा। जाहिर है कि कांग्रेस के इन वादों से सीधे-सीधे देश की आंतरिक सुरक्षा खतरे में पड़ जाएगी। वास्तव में इसे घोषणापत्र नहीं, बल्कि बदलापत्र कहना ज्यादा सही होगा, जो कांग्रेस गाँधी परिवार को सत्ता से बेदखल करने के लिए देश और जनता से लेना चाहती है।

यह भी पढ़ेंः जगजीवन राम, जिन्हें कभी अगड़ों ने दुत्कारा, फिर बाबूजी कह पुकारा

यह भी पढ़ेंः जेल और बेल वाले लोग ही चौकीदार को दे रहे गालीः सुशील मोदी

श्री रंजन ने कहा कि इस घोषणापत्र में न तो देश के लिए कोई ठोस योजना बताई गयी है और न ही इनके हवा-हवाई वादे कैसे पूरे होंगे, इसका कोई उल्लेख है। इनकी न्याय योजना को ही लें तो इस पर इनके अध्यक्ष समेत पूरी पार्टी कंफ्यूज नजर आती है। कभी यह इस पर आने वाला 3.60 लाख करोड़ रुपये का भारी-भरकम भार केंद्र द्वारा अकेले वहन करने की बात करते हैं तो कभी इसमें राज्यों का भी हिस्सा बताने लगते हैं तो कभी यह देश की समृद्धि बढ़ने के साथ-साथ इसे लागू करने की बात कहते हैं।

यह भी पढ़ेंः बिहार की सभी सीटों पर जीत दर्ज करेगा एनडीए : राजीव रंजन

इस घोषणापत्र में भी इन्होंने इस मसले को साफ नहीं किया है। हकीकत में कांग्रेस को यह बर्दाश्त ही नहीं हो रहा है कि देश उन्हें खारिज कर चुका है, इसीलिए इस घोषणापत्र के जरिए राष्ट्रविरोधी तत्वों को खुश करने की कोशिश की गयी है। कांग्रेस के नेता यह जान लें कि जनता उनके झूठ और फरेब के जरिए देश को कमजोर करने की चाल को समझ चुकी है और उनका यह मंसूबा कभी कामयाब नहीं होने देगी। इस घोषणापत्र के बाद यह तय हो गया है कि चुनाव जीतना तो दूर, कांग्रेस को 44 सीटें भी नहीं मिलने वाली।

यह भी पढ़ेंः मधुमक्खी पालन ने बदल दी प्रदीप की किस्मत, कारोबार 50 लाख

- Advertisement -