भ्रष्टाचार के खिलाफ कारगर हथियार साबित हो रहा है आधार: राजीव

0
270

पटना। भ्रष्टाचार के खिलाफ केंद्र सरकार की प्रतिबद्धता दोहराते हुए भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक श्री राजीव रंजन ने आधार योजना को भ्रष्टाचार के खिलाफ कारगर हथियार करार दिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जब से देश की सत्ता संभाली है, भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति को अपनाया है। पिछले चार वर्षों को देखें तो मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार के माध्यम से सरकारी धन लूटने वालों के सभी रास्ते धीरे-धीरे बंद कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि देश भर में भ्रष्टाचार को देखते हुए आधार को जोड़ने का फैसला सरकार ने किया।

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार को जड़ से मिटाने की दिशा में केंद्र द्वारा चलाए जा रहे अभियान में आज आधार काफी कारगर सिद्ध हो रहा है। आधार के कारण तमाम सरकारी विभागों और मंत्रालयों से लाभ लेने वाले लोगों के फर्जीवाड़े का पता चल रहा है। यह आधार का ही असर है कि देश से 80 हजार फर्जी शिक्षक अब गायब हो गए हैं। मानव संसाधन विकास मंत्रालय को मिले शिक्षकों के नए आंकड़ों में एक भी फर्जी शिक्षक (घोस्ट टीचर) नहीं बचा है। एक ही आधार के जरिए एक से अधिक संस्थानों में शिक्षक की मौजूदगी और गलत आधार नंबर देख मंत्रालय इन आंकड़ों तक पहुंचा था।

- Advertisement -

याद करें तो स्कूलों में चलाए जाने वाले मिड-डे मील योजना में भी पहले ऐसी शिकायतें आम थीं, लेकिन छात्रों को आधार से लिंक करने के बाद तकरीबन 4.40 लाख छात्रों के फर्जी रजिस्ट्रेशन का खुलासा हुआ। इसके अलावा आधार नंबर से राशन कार्ड को जोड़ने की योजना से भी सरकारी खजाने को राहत मिली है। खाद्य सब्सिडी में सालाना 17 हजार करोड़ रुपये की चोरी रुक गई है। आधार लिंकिंग से देश भर में कुल 3 करोड़ फर्जी और नकली राशन कार्ड रद्द किए जा चुके हैं। आधार से मनरेगा में वर्षों से जारी फर्जीवाड़े पर भी रोकथाम लगी है। इस योजना में अनियमितता और भ्रष्टाचार की शिकायतों को देखते हुए आधार नंबर को इस योजना के लिए अनिवार्य कर दिया गया था। उसके बाद देश भर में एक करोड़ से ज्यादा जॉब कार्ड फर्जी मिले। सरकार ने तत्काल प्रभाव से फर्जी जॉब कार्ड को रद्द कर दिया।

उन्होंने कहा कि इन आंकड़ों को देखते हुए भ्रष्टाचार के रोकथाम में आधार का बढ़ता महत्व स्वत: जाहिर हो जाता है। आधार से न सिर्फ भ्रष्टाचार पर लगाम लगी है, बल्कि सरकार का हजारों करोड़ रुपया भी बच रहा है।

यह भी पढ़ेंः केंद्र के चार वर्षों में भ्रष्टाचारियों पर निरंतर हुआ वारः राजीव रंजन

- Advertisement -