रघुवर का दावा, झारखंड के गांव-गली में विकास की गंगा बह रही है

0
123

जमसेदपुर। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि मां भगवती से यही आराधना है कि प्रत्येक झारखंड वासी की मनोकामना पूर्ण करें। घर-घर में समृद्धि आए और अज्ञानता दूर होकर झारखंड सर्वत्र ज्ञान के प्रकाश का अभ्युदय करे। उन्होंने दावा किया कि झारखंड के गांव-गली में विकास की गंगा बह रही है। मुख्यमंत्री आज सामुदायिक भवन बिरसानगर जोन नंबर टू बी, जमशेदपुर में झारखंड राज्य खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड सिलाई प्रशिक्षण केंद्र के उद्घाटन के अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधी के सपनों का भारत बनाने के लिए उनके आदर्शों पर चलना होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के दिन नारी सशक्तीकरण की दिशा में एक और कदम बढ़ाते हुए सिलाई प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन इस बात को दर्शाता है कि सरकार महिलाओं के आर्थिक सशक्तीकरण के लिए कितनी गंभीरतापूर्वक काम कर रही है। उन्होंने कहा कि पूरा ब्रह्मांड और पूरी सृष्टि मातृ शक्ति द्वारा संचालित है। यह शक्ति विभिन्न रूपों में सर्वत्र व्याप्त है। मातृशक्ति सिंह जैसे शक्तिशाली जीव की सवारी करके आती है और यही शक्ति पूरी सृष्टि में प्रवाहित है। यही मातृ शक्ति परिवार का भी पालन पोषण कर रही है। नारी शक्ति के बिना कुटुंब व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो जाएगी और पारिवारिक व्यवस्था की कल्पना भी नहीं की जा सकती। हमारे देश में नारी शक्ति की पूजा की जाती है। बिरसा नगर के क्षेत्र में महिलाओं का आर्थिक सशक्तीकरण करने और उन्हें स्वावलंबी बनाने की दिशा में यह शुरुआत की गई है।

- Advertisement -

मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की सोच थी कि भारत आजादी के बाद परावलंबन से स्वावलंबन की ओर बढ़े। राष्ट्रपिता के बताए रास्ते पर चलने का काम और उनके सपनों का भारत बनाने का काम देश के प्रधानमंत्री ने किया है और देशवासियों को यह भरोसा दिया कि महात्मा गांधी के सपनों का भारत बनाने के लिए बापू के आदर्शों को देश अमल में ला रहा है। बापू ने देशवासियों से अपील की थी कि अधिक से अधिक खादी का प्रयोग करें, जिससे खादी का प्रचलन बढ़ने के साथ साथ इसके निर्माण में लगे देशवासियों को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर प्राप्त हों। उन्होंने कहा कि घरों में खादी के चादर-पर्दे का उपयोग करें। घर में, कार्यालय में, हर काम में खादी का प्रयोग करने से आवश्यकता पूरी होने के साथ-साथ उसमें लगी महिलाओं, कारीगरों को रोजगार के साधन भी प्राप्त होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी का एक और सपना था कि भारत स्वच्छ बने। प्रधानमंत्री ने 2 अक्टूबर 2014 को देशवासियों का आह्वान किया था कि 2019 में राष्ट्र जब महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मना रहा होगा, तब उनके चरणों में हम स्वच्छत भारत अर्पित करेंगे। इस दिशा में झारखंड सरकार ने 2018 में ही स्वच्छ झारखंड बनाने की दिशा में पहल की है। 2014 में जहां झारखंड के 18% घरों में शौचालय थे, वहीं आज 99.9% घरों में शौचालय हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 नवंबर को जब राज्य अपनी स्थापना दिवस मनाएगा, तब हम देश को यह बताएंगे कि हमने 2018 में ही शत-प्रतिशत लक्ष्य को प्राप्त कर लिया है। इसका श्रेय भी महिला शक्ति को जाता है।

यह भी पढ़ेंः सुशील मोदी ने लालू पर जातिवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया

- Advertisement -