सांसद पप्पू यादव की टिप्पणी से मुजफ्फरपुर की SSP मर्माहत

0
122

मुजफ्फरपुर। वरीय आरक्षी अधीक्षक  हरप्रीत कौर ने भरे मन से पप्पू यादव प्रकरण में अपनी स्थिति स्पष्ट करते हुए पत्रकारों से कहा है कि एक ओर श्री पप्पू यादव नारी की रक्षा के लिए पदयात्रा कर रहे हैं और दूसरी ओर सांसद होकर मेरे प्रति अमर्यादित टिप्पणी कर रहे हैं। यह उनके लिए अशोभनीय है। वे उनके इस अमर्यादित टिप्पणी के लिए लीगल स्टेप पर भी गंभीरता से विचार कर रही हैं।

उन्होंने उनके बयान को गलत, मनगढ़ंत, बेबुनियाद व हास्यास्पद बताते हुए कहा कि भला ब्रजेश ठाकुर से मिलकर श्री यादव की हत्या वह क्यों कराना  चाहेंगी? उन्होंने तो ब्रजेश ठाकुर के खिलाफ सख्त कार्रवाई की है। भला कोई एसएसपी क्यों किसी जनप्रतिनिधि की या किसी जन साधारण की हत्या कराना  चाहेगा?

- Advertisement -

यह भी पढ़ेंः बिहार के लिए BLACK SUNDAY- डूबने व वज्रपात से 6 महिलाएं मरीं

एस. एस. पी. ने कहा कि भारत बंद के दौरान पुलिस ने पप्पू यादव को नहीं झुठलाया, बल्कि पुलिस ने एविडेंस के आधार पर अपना काम किया है। पप्पू यादव ने तो  उस दिन मामला भी दर्ज नहीं करवाया था। उन्होंने कहा कि सांसद महोदय का फोन उनके मोबाइल में सेव नहीं है। आई. जी. ऑपरेशन द्वारा पुलिस लाइन के चल रहे निरीक्षण की वजह से उन्होंने किन्हीं का फोन नहीं उठाया था। फिर बात होने पर डी. एस. पी. को जांच के लिए भेजा भी था। उन्होंने बताया कि 6 सितम्बर  को भारत बंद के दिन श्री यादव का सारा कार्यक्रम मधुबनी में था। उनके यहां से स्कार्ट भी नहीं मांगा गया था।

यह भी पढ़ेंः 2500 रुपये में एक घंटे की हवाई यात्रा कर सकेंगे झारखंड के लोग

उनका यह कहना कि एस. एस. पी. ने रात 9 बजे अपने चहेते पत्रकार को लव लेटर देकर भेजा। किसी सांसद के द्वारा इस तरह की टिप्पणी अशोभनीय है। हरप्रीत कौर ने कहा कि मैं सांसद महोदय की अमर्यादित टिप्पणी से मर्माहत हूं।

- Advertisement -