मनपौर के पैक्स अध्यक्ष ने परिवार के 9 के नाम लिया लोन

0
239
बिहार
बिहार

पटना। किसान कर्जमाफी और फसल बीमा योजना का लाभ लेने के लिए मधुबनी जिले के मनपौर पंचायत के पैक्स अध्यक्ष ने तरह-तरह के हथकंडे अपनाये। प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) के कार्यालय से प्राप्त दस्तावेजों के अनुसार, पैक्स अध्यक्ष ने अपनी मां, पत्नी, दो बेटों, छोटे भाई, छोटे भाई की पत्नी और उसके दो बच्चों के नाम पर कृषि ऋण का उठाव किया। इन सभी नौ लोगों के नाम पर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत बीमा भी करवा रखी है। खरीफ फसल के नाम पर प्रत्येक व्यक्ति के नाम पर 50 हजार रुपये की बीमा ली है। इन सभी की जमीन का रकबा एक ही है।

खरीफ फसल बीमा वर्ष 2016 में पैक्स अध्यक्ष की मां महालक्ष्मी देवी (पत्नी विष्णुकांत झा, क्रम संख्या 18621, खाता संख्या : 1315008008696) के नाम पर 50 हजार रुपये की बीमा करवायी गयी है। इसी तरह ललन झा (पुत्र विष्णुकांत झा, क्रम संख्या 18639, खाता संख्या : 1315008008709),  उसके छोटे भाई सरोज कुमार झा (पुत्र विष्णुकांत झा, क्रम संख्या 18631, खाता संख्या : 1315008008701) के नाम से भी 50 हजार रुपये की फसल बीमा करवा रखी है।

- Advertisement -

पैक्स अध्यक्ष ने अपनी पत्नी परमिला देवी (क्रम संख्या 18638, खाता संख्या : 1315008008524) और दो पुत्रों कुणाल कुमार (क्रम संख्या 18626, खाता संख्या : 1315008008693) एवं राजेंद्र कुमार झा (क्रम संख्या 18634, खाता संख्या : 1315008008697) के नाम पर भी 50-50 हजार रुपये की फसल बीमा ले रखी है। इसने अपने छोटे भाई की पत्नी अभिलेष देवी और उसके दो बेटों नंद कुमार और कुंदन कुमार झा के नाम पर भी 50-50 हजार की बीमा करवा रखी है।

अभिलेष देवी (पत्नी सरोज कुमार झा, क्रम संख्या 18660, खाता संख्या : 1315008008695), नंद कुमार (पिता सरोज कुमार झा, क्रम संख्या 18633, खाता संख्या : 1315008008699) और कुंदन कुमार झा (पिता सरोज कुमार झा, क्रम संख्या 18637, खाता संख्या : 1315008008707) के नाम पर न केवल फसल ऋण लिया है, बल्कि इन सभी के नाम पर फसल बीमा भी ले रखी है।

यह भी पढ़ेंः बिहार की बातः ऐसे हुआ मधुबनी में पैक्स घोटाले का खुलासा

दस्तावेजों के अनुसार, इन सबके नाम 1.3244331426-1.3244331426 हेक्टेयर जमीन हैं. इस तरह इस परिवार के पास कुल मिलाकर 11.9198982834 हेक्टेयर जमीन होनी चाहिए, जबकि इनके पूरे परिवार के पास इतनी जमीन नहीं है।

यह भी पढ़ेंः किसान कर्जमाफी व फसल बीमा के नाम पर पैक्स अध्यक्ष हो गये मालामाल

- Advertisement -