बिहार के नवादा में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़

0
229

एक नक्सली  को लगी गोली, घायलावस्था में लेकर भागे साथी 

नवादा। रजौली थाना क्षेत्र के भानेखाप के जंगलों में 15 सितंबर से नक्सलियों के होने की सूचना पर एएसपी अभियान कुमार आलोक के नेतृत्व में जिला पुलिस बल, स्वाट एवं एसटीएफ की दो टीमों के साथ एसएसबी के जवानों ने कॉन्बिंग ऑपरेशन चलाया। कोडरमा और रजौली के सीमांत जंगली क्षेत्रों में तीन दिनों से चल रहे सर्च अभियान में सोमवार को पुलिस और नक्सलियों के बीच कॉम्बिंग ऑपरेशन के दौरान जबरदस्त मुठभेड़ हुई।

एएसपी अभियान में कहा 10 दिनों से लगातार सूचना मिल रही थी। कि माओवादियों के आईईडी एक्सपर्ट प्रद्युमन शर्मा के साथ 15-20 की संख्या में नक्सली ग्रुप जंगल में पांव जमाए हुए हैं। नक्सलियों के होने की सूचना मिलने के बाद सुरक्षाबलों के साथ कॉन्बिंग ऑपरेशन चलाया गया। यह कॉम्बिंग ऑपरेशन शनिवार की रात को ही शुरू हो गई थी। कॉन्बिंग के दौरान दोनों ओर से लगातार फायरिंग हुई।थाना क्षेत्र के भानेखाप के जंगल में कारी पहाड़ी के महुआ माइंस के बगल में पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में पुलिस की गोलियों से दो नक्सली घायल भी हुए हैं। नक्सलियों के मारे जाने की भी आशंका जताई जा रही है, लेकिन शव नहीं मिलने के कारण पुलिस इसकी पुष्टि नहीं कर पा रही है।

- Advertisement -

भानेखाप के जंगलों में शनिवार  की रात 10 बजे से कांबिंग ऑपरेशन चल रहा है। बताया जाता है बिहार-झारखंड सीमा पर किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए नक्सली जुटे हुए थे। इसकी गुप्त सूचना पर पुलिस का कॉन्बिंग ऑपरेशन शुरू हुआ और सोमवार की सुबह को  नक्सलियों  के संग मुठभेड़ हो गई। पुलिस की ओर से कोई जवान घायल नहीं हुआ है। एएसपी अभियान ने बताया कि मुठभेड़ में नक्सलियों की ओर से 20 – 25 से ज्यादा राउंड गोलीबारी की गई। जवाबी फायरिंग में पुलिस के द्वारा 10 -15 राउंड फायरिंग की गई। पुलिस की गोली से दो नक्सली घायल भी हुए हैं। एएसपी अभियान ने कहा कि घायलों में एक नक्सली  है। दूसरे की पहचान नहीं कि जा सकी है। जिसे हमारे जवानों ने देखा है। नक्सली घायलों को लेकर जवाबी फायरिंग करते हुए उल्टे पांव भाग गए। उनकी तलाश की जा रही है।

पुलिस ने नक्सलियों के स्थान से एक कार्बाइन, एक मैग्जीन, रेडियो, चटाई, नक्सली पर्चा, पिठ्ठु, जीडी यूज के सामान के साथ बहुत सारी राशन सामग्री बरामद की है। राशन पानी नक्सलियों के पास नहीं है। जो था उसे पुलिस ने जब्त कर लिया है। इसलिए वे लोग ज्यादा देर तक छुपकर नहीं रह सकते है। इसलिए उनकी तलाश जोर-शोर से  की जा रही है। इस ऑपरेशन में झारखंड पुलिस व गया जिले की पुलिस भी सहयोग कर रही है। अपने अपने सीमा पर नाकेबंदी कर सील कर दिया गया है। जिसके कारण नक्सली बच कर नहीं निकल सकते।मंगलवार को भी जंंगली क्षेत्रों मे घायल नक्सलियों की तलाश पुलिस कर रही है।

यह भी पढ़ेंः बिहार के अतीत को संजोने के लिए अभी और बनेंगे संग्रहालय

- Advertisement -