सारण समाचारः जहरीला खाद्य पदार्थ खाने से 22 बच्चे बीमार

0
435

छपरा (सारण)। सतजोड़ा के बगडीहां नटटोली में 22 बच्चे डायरिया से पीड़ित हो गए हैं। स्थानीय सरपंच सुदामा शार्मा ने पानापुर पीएचसी के चिकित्सा पदाधिकारी को सूचित किया। सूचना मिलते हीं चिकित्सा पदाधिकारी अपने कर्मियों के साथ घटना स्थल पर पहुंचे और स्थिति को काबू में किया।

यह भी पढ़ेंः महागठबंधन में बना सीट शेयरिंग का फार्मूला, 15 से 20 सीटों पर RJD

- Advertisement -

डायरिया से ग्रसित सभी बच्चों को आवश्यक दवाइयां दी गईं तथा सबको स्लाइन चढ़ाया गया। पीएचसी की टीम सुबह 9 बजे से ही बीमारों की देखभाल कर रही है। चिकित्सा पदाधिकारी  जे.ए. गोस्वामी ने बताया कि बच्चों को फूड प्वायजनिंग हो गया है। इसी के कारण इनका यह हाल हुआ। ग्रामीणों ने बताया कि बच्चे रविवार को ठेले पर बिक रहा चाउमीन एवं छोला खाये थे। घटना कि सूचना पाकर स्थानीय विधायक श्री मुंद्रिका प्रसाद राय तथा बीडीओ मो0 सज्जाद ने पीड़ित परिवार से मिलकर उनका हाल जाना।

यह भी पढ़ेंः बेगूसराय से JNU वाले कन्हैया कुमार होंगे महागठबंधन के उम्मीदवार

पूजा का शव अपने पैत्रिक गांव पहुँचते ही मचा कोहराम, 4 माह पहले ही हुई थी शादी

रसूलपुर (सारण)। हर माँ बाप अपनी बेटी की शादी का सपना पिरोते है कि वे अपनी बेटी की शादी बहुत ही धूमधाम से करेंगे। लड़की बड़ी होती है तो एक अच्छे घर और वर की तलाश कर उसकी शादी कर देते हैं, लेकिन उन्हें क्या पता होता है कि अपनी बेटी को वे दहेज लोभियों के यहाँ भेज रहे हैं, जो दहेज के लिए बेटी की जान भी ले सकते हैं।

ऐसा ही मामला स्थानीय थाना क्षेत्र के माधोपुर गांव में देखने को मिला है। बच्चा साह ने अपनी पुत्री की सादी चार महीने पहले ही 4 मई को सीवान जिले के महाराजगंज थाने के गौरा गांव के अजित साह से की थी। दहेज में मात्र 50 हजार रुपये बाकी रहने के कारण उनकी पुत्री पूजा की गला दबा कर उसके ससुराल वालों ने हत्या कर दी और फिर आत्महत्या का दिखावा करने के लिये शव को गले में फंदा डालकर खिड़की से लटका दिया। सूचना मिलते ही उसके परिजन महाराजगंज थाना में पहुंचे और पूजा के पति, सास, ससुर, ननद, ननदोई आदि को आरोपित बनाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई। महराजगंज पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के बाद उसके परिजनों को सौंप दिया। शव के माधोपुर पहुँचते ही पूजा के परिजनों पर दुःख का पहाड़ टूट पड़ा और पूरे गाँव में इसकी चर्चा होती रही।

- Advertisement -