समस्तीपुर की बेटी अनुपम ने जिले का नौम रौशन किया

0
304

समस्तीपुर। जिले के विभूतिपुर प्रखंड के ग्रामीण इलाके में रह कर मैट्रिक करने वाली और फिर माता-पिता का सानिध्य पाकर मुजफ्फरपुर से पढ़ाई करने वाली एक लड़की ने बीपीएससी में बाजी मारी है। इस संबंध में एक पंक्ति बहुत कुछ याद दिलाती है कि लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती। उक्त पंक्ति को चरितार्थ सिद्ध करके दिखाया है मिश्रौलिया निवासी अवकाश प्राप्त शिक्षक डॉ. हरेराम महतो और शिक्षिका शांति कुमारी की तीसरी पुत्री अनुपम कुमारी ने।

इन्होंने बीपीएससी की परीक्षा में बाजी मारी है और 464 वां रैंक हासिल किया है। अब अनुपम अधिकारी बन कर देश की सेवा करेंगी। इनकी प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा गांव में ही हुई और उच्च विद्यालय मिश्रौलिया से प्रथम श्रेणी में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की। चूंकि पिता और माता मुजफ्फरपुर स्थित विद्यालय में शिक्षक थे। इसलिए इनकी इंटरमीडिएड की पढाई एमडीएमबी कॉलेज मुजफ्फरपुर से हुई और प्रथम श्रेणी से वह पास हुईं। केमेस्ट्री विषय में प्रथम श्रेणी में ग्रेजुएट हुईं। इसके बाद जेएनयू द्वारा ली गई इंट्रेन्स पास कर केमेस्ट्री विषय में प्रथम श्रेणी से बायो टेक्नोलॉजी में एमएससी की। फिर नेट क्वालीफाई कर जेआरएफ और एसआरएफ हुआ और 2011-16 में पीएचडी की उपाधि मिली।

- Advertisement -

वर्ष 2014 में बीपीएससी पीटी, 2016 में मेन्स और 2018 में इंटरव्यू पास कर अब वह अधिकारी बनेंगी और राज्य की सेवा करेंगी। अनुपम ने बताया कि इस बार भी इनका बीपीएससी पीटी में रिजल्ट हुआ है। मेन्स देकर आयी हैं। पुन: रिजल्ट बनने की पूरी उम्मीद है। 5 भाई-बहनों में कुमारी पुष्पम बीपीएम, बहन डॉ० रूपम कुमारी पीएमसीएच में एमबीबीएस और अब एमएड कर रही हैं।

यह भी पढ़ेंः समस्तीपुर की निधि राज 16 वीं रैंक लाकर बनी एसडीएम 

अनुपम कुमारी स्वयं, बहन शबनम राज बिहार टीईटी क्वालिफाई हैं और भाई रवि रंजन कुमार पटना वेटनरी कॉलेज से पीजी कर रहे हैं। इनमें अनुपम क्रमश: तीसरे नम्बर पर हैं। सफलता पर जश्न और बधाई का तांता लगा हुआ है। अनुपम कुमारी के बीपीएससी में फाइनल रिजल्ट बनने से पैत्रिक गांव मिश्रौलिया में जश्न का माहौल है।

- Advertisement -