गवर्नर से मिले रवींद्र रंजन, खेती-किसानी की दुर्दशा बतायी

0
114

पटना। भाजपा किसान मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य व स्वामी सहजानन्द किसान वाहिनी के अध्यक्ष श्री रवींद्र रंजन ने आज बिहार में भयंकर सूखे की स्थिति और किसानों की अन्य समस्याओं से अवगत कराने हेतु महामहिम राज्यपाल श्री सत्यपाल मालिक जी से राजभवन जाकर मुलाकात की। श्री रंजन ने महामहिम को बताया कि बारिश नहीं होने के से बिहार के किसान त्राहिमाम कर रहे हैं। पूरे बिहार में मात्र 15 फीसदी ही रोपनी हो पाया है।

गंभीर बात है कि सोन के किनारे बसे धान का कटोरा कहे जाने वाले क्षेत्रों में भी रोपनी का हाल बुरा है। सोन नहर में पानी नहीं आने से इस क्षेत्र के किसान  किसान भी भीषण संकट झेल रहे हैं। अगर सोन नहर में पानी पर्याप्त छोड़ा जाये तो बिहार के आधा दर्जन जिलों में धान रोपनी  15 से 50 फीसदी के पार पहुँच जाएगा। पटना, अरवल,औरंगाबाद, आरा, कैमूर आदि जिलों का धनखेती सोन की पानी पर निर्भर करता है। बिहार में धान के कुल उपज का 60 फीसदी इन्ही इलाकों में होता है।

- Advertisement -

भयंकर सुखाड़ में भी इन इलाकों में धनखेती का प्रतिशत कभी इस स्तर पर नही गिरा था। अगर इन इलाकों में पर्याप्त रोपनी नहीं हुआ तो धान संकट की समस्या से भी देश को जूझना पड़ सकता है। इन जिलों में पीने के पानी की भी समस्या हो गई है। पानी का लेयर नीचे जाने से चापाकलों ने भी पानी देना बन्द कर दिया है। अतः सरकार को टास्क फोर्स का गठन कर अबिलम्ब इस दिशा में ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है। अगर समय रहते कोई व्यवस्था नही की गई तो इन इलाकों के किसानों के सामने आर्थिक संकट होगा। क्योकि इन इलाकों के किसानों के धान के फसल पर ही निर्भर करते हैं। जबकि बिहार के अन्य इलाकों के किसान विभिन्न तरह की खेती पर निर्भर करते हैं। वार्ता के उपरांत श्री रंजन ने महामहिम राज्यपाल को महान किसान नेता स्वामी सहजानन्द सरस्वती समृति ग्रंथ माला भेंट की तथा अगले माह आयोजित किसान वाहिनी द्वारा आयोजित किसान संवाद रैली में बतौर मुख्यातिथि के रूप में आने का निमंत्रण दिया जिसे उन्होंने स्वीकार किया।

- Advertisement -