रिम्स में मरीजों को निजी अस्पताल जैसी व्यवस्था का निर्देश

0
81
मंगलवार को रिम्स, रांची का औचक निराक्षण करने पहुंचे मुख्यमंत्री रघुवर दास
मंगलवार को रिम्स, रांची का औचक निराक्षण करने पहुंचे मुख्यमंत्री रघुवर दास

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज रिम्स का औचक निरीक्षण किया

  • नया ओपीडी बनाए, सरकार पूरा सहयोग करेगी
  • गरीब, असहाय की सेवा करें, आशीर्वाद फलेगा

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज रिम्स का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने मरीजों के लिए निजी अस्पताल जैसी व्यवस्था का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि रिम्स को हमें प्रोफेशनल तरीके से चलाना है। राज्यभर से लोग यहां इलाज कराने आते हैं। लोगों को अच्छा इलाज और अच्छी व्यवस्था मिले, इसके लिए हमसब को मिलकर प्रयास करना होगा। रिम्स में भी लोगों निजी अस्पताल जैसी व्यवस्था मिले, इसके लिए रिम्स प्रशासन कड़ाई के साथ व्यवस्था लागू करे। एक मरीज के साथ एक ही अटेंडेंट रहे, इसे सुनिश्चित करें। इमरजेंसी में भी यह नियम लागू करायें। उक्त बातें उन्होंने रिम्स के निदेशक डॉ दिनेश कुमार सिंह से कहीं। वे आज रिम्स का औचक निरीक्षण करने पहुंचे थे।

यह भी पढ़ेंः बिहार में क्राइम कंट्रोल के लिए पुलिस की गश्त बढ़ायी जाये

- Advertisement -

मुख्यमंत्री ने कहा कि ज्यादा भीड़ रहने से न केवल चिकित्सकों को इलाज करने में परेशानी होती है, बल्कि मरीज को भी हल्ला-गुल्ला से परेशानी होती है। मरीज के परिजन इसमें रिम्स प्रबंधन का सहयोग करें। रिम्स प्रबंधन लोगों को पास जारी करे। गेट पर पास दिखाकर ही मरीज के परिजन को अंदर जाने दें। बीच-बीच में जांच करते रहे कि कोई अतिरिक्त व्यक्ति तो अंदर नहीं आ गया है। ऐसे लोगों से बाहर जाने का अनुरोध करें। नहीं मानने पर कड़ाई से उन्हें बाहर करें।

यह भी पढ़ेंः झारखंड में किसानों की समृद्धि के लिए खर्च होंगे 5 हजार करोड़

मुख्यमंत्री ने इमरजेंसी में तत्काल पंखे लगाने का निर्देश देते हुए कहा कि जब तक एसी नहीं लग जाती है, तब तक पंखे जरूर लगवायें। पहले से ही घायल या बीमार मरीज को गर्मी से और ज्यादा परेशानी होती है। साथ ही पूरे रिम्स में सेंट्रलाइज्ड एसी लगाने व अन्य जरूरी कार्यों के लिए अनुमानित लागत का अनुमान लगाकर दें। राज्य सरकार सीएसआर समेत अन्य साधनों से इस राशि की व्यवस्था करेगी। उन्होंने रिम्स परिसर को साफ-सुथरा रखने का भी निर्देश दिया।

यह भी पढ़ेंः झारखंड में और 14 लाख महिलाओं को मिलेगी धुएं से मुक्ति

वार्ड में उपस्थित चिकित्सकों से  मुख्यमंत्री ने कहा कि डॉक्टर भगवान का रूप माने जाते हैं। गरीब व असहाय की सेवा करें। इनसे जो आशीर्वाद मिलेगा, वह बहुत फलेगा। वे लगातार मरीजों के संपर्क में रहें। गरीब के चेहरे पर मुस्कान देखने से जो सुकून मिलेगा, वह सुकून किसी ओर चीज से नहीं मिल सकता है। चिकित्सक रोजाना समय से वार्ड का भ्रमण करें।

यह भी पढ़ेंः झारखंड के उग्रवाद प्रभावित जिलों में 150 करोड़ खर्च

रिम्स निदेशक दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि रिम्स की ओपीडी काफी पुरानी हो चुकी है। यहां मरीजों व उनके परिजनों के बैठने आदि के लिए समुचित व्यवस्था नहीं हो पा रही है। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि नयी व बड़ी ओपीडी बनाने के लिए जरूरी प्रक्रिया पूरी करें। सरकार पूरी तरह से सहयोग करेगी। रिम्स में मरीजों के परिजनों के लिए वेटिंग रूम बनायें। वहां पानी, शौचालय के साथ ही सस्ती दर पर भोजन की भी व्यवस्था करें।

यह भी पढ़ेंः भारत युवाओं का देश, युवा हमारे अमूल्य मानव संसाधनः रघुवर 

- Advertisement -