पटना पहुंची बॉलीवुड स्टार प्रीति जिंटा, कहा- रूड़ी से घरेलू संबंध 

0
814
अभिनेत्री प्रीति जिंटा
अभिनेत्री प्रीति जिंटा

पटना। बॉलीवुड स्टार प्रीति जिंटा एक प्रमोशनल शो में शिरकत करने पटना पहुंची। बॉलीवुड स्टार प्रीति जिंटा ने कहा कि बिहार से मेरा पहले से नाता रहा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री और मौजूदा भाजपा सांसद राजीव प्रताप प्रताप रूड़ी से इनके पारिवारिक संबंध हैं। चुनाव कैंपेन में वह कई बार बिहार आ चुकी हैं।

शिमला में 31 जनवरी 1975 को जन्मी प्रीति जिंटा के पिता दुर्गानंद जिंटा भारतीय थलसेना में अफसर थे। उनकी मां नीलप्रभा है गृहिणी हैं। प्रीति जब 13 वर्ष की थीं, तब उनके पिता की मृत्यु कार दुर्घटना में हो गयी थी। उनकी मां  भी इस दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हुई थीं। उनकी चोट की गंभीरता इतनी थी कि वे दो वर्षों तक बिस्तर से उठ नहीं पायीं। अब पूरे घर की जिम्मेदारी प्रीति के कंधों पर थी। उनके दो भाई हैं- दीपांकर और मनीष। दीपांकर भारतीय थलसेना में अफसर हैं व मनीष कैलिफोर्निया में रहते हैं।

- Advertisement -

साइक्लाजी में एमए करने के बाद प्रीति ने मॉडलिंग में अपनी किस्मत आजमाई। इसकी भी एक कहानी है। उनकी दोस्त की जन्मदिन की पार्टी हो रही थी। उसमें प्रीति भी पहुंची थीं। उनकी मुलाकात एक विज्ञापन निर्देशक से हुई। प्रीति के बारे में जानने के बाद उन्होंने उन्हें अपनी एड एजेंसी में विज्ञापन करने आफर दिया। उसके बाद प्रीति ने लिरिल साबुन और परक चॉकलेट जैसे कई विज्ञापन किये।

फिल्मों में प्रीति का प्रवेश शेखर कपूर निर्देशित फिल्म तारा रम पम पम से हुआ। हालांकि यह फिल्म बन नहीं पायी। मणि रत्नम के निर्देशन में बनने वाली एक फिल्म में उन्हें आने का प्रस्ताव मिला। शाहरुख खान और मनीषा कोइराला इस फिल्म में थे। इस फिल्म में प्रीति सहायक अभिनेत्री के तौर पर नजर आयीं थीं। उन्होंने अपने अभिनय से दर्शकों को अपना कायल बना लिया। उन्हें इसी फिल्म के लिए फिल्मफेयर में सर्वश्रेष्ठ नई अदाकारा का अवार्ड मिला। नायिका के रूप में वह फिल्म सोल्जर में पहली बार नजर आयीं। देव एंड दीवा के आयोजनकर्ता बिहार के शो मैन मनमीत सिंह अलबेला के सौजन्य से प्रीति जिंटा पटना आई हैं।

यह भी पढ़ेंः गांधी जी ने पत्रकार के रूप में भी कुछ अलग प्रयोग किये

यह भी पढ़ेंः महात्मा गांधी के धुर विरोधी सी आर दास कैसे उनके मुरीद बन गये

यह भी पढ़ेंः महात्मा गांधी ने हर कालखंड में तानाशाही को चुनौती दी

यह भी पढ़ेंः तेरह वर्ष की उम्र में हुआ था गांधी जी और कस्तूरबा का विवाह

यह भी पढ़ेंः महात्मा गांधी के जितने प्रशंसक हैं, उससे कम आलोचक भी नहीं

यह भी पढ़ेंः बिहार में भाजपा और जदयू के बीच बढ़ती ही जा रही हैं दूरियां

- Advertisement -