पड़े-पड़े सड़ गया लोगों का निवाला, दो दिनों तक खुले में रहा अनाज 

0
342

हाजीपुर। बिहार के वैशाली में हैरान करने वाली तस्वीर सामने आई है। जहां सरकार की लापरवाही से हजारों क्विंटल सरकारी अनाज बारिश में भींग कर बर्बाद हो गया। दरअसल खाद्य सुरक्षा योजना के तहत गरीबों को दिए जाने के लिए करीब 100 ट्रक चावल नावादा से हाजीपुर भेजा गया था। चावल की खेप मालगाड़ी से सराय रेल रैक प्वाइंट भेजी गयी थी, जंहा से बिहार राज्य खाद्य निगम को इसे गोदामों में भेजा जाना था।

चावल की खेप 03 जुलाई को हाजीपुर के सराय स्टेशन पर पहुँच गई, लेकिन बिहार सरकार को चावल की ढुलाई के लिए गाड़िया नहीं मिल सकीं, जिसके चलते 42 बैगन यानी करीब 100 ट्रक चावल को रेलवे प्लेटफार्म पर ही उतार दिया गया। उतारी गई चावल की बोरियां दो दिनों तक पानी से लबालब प्लेटफार्म और खुले आसमान और बारिश के बीच रहीं, जिससे चावल भींग बर्बाद हो गया। हैरत की बात ये दिखी प्लेटफार्म पर ना तो शेड था ना, ही सूखी जमीन, लेकिन खाद्य विभाग ने पानी से लबालब जमीं पर ही तिरपाल बिछा कर बोरियों को रखवा दिया और अगले दो दिनों में कई बार हुई बारिश में चावल भींग कर बर्बाद हो गया।.

- Advertisement -

सरकारी लापरवाही की वजह से  हजारों बोरी अनाज के बारिश में भींग कर बर्बाद होने के मामले की जानकारी के बाद वैशाली DM ने एक्शन लिया। अनाज के सड़ने की खबर मिलने पर जिलाधिकारी राजीव कुमार ने जिले के डीएम SFC सहित खाद्य निगम पटना के MD को नोटिस जारी कर इस सम्बन्ध में मामला दर्ज कर जाँच करने का आदेश दिया है। जिलाधिकारी ने अनाज के बर्बाद होने के मामले में जो भी जिम्मेदार है, उसके खिलाफ अनाज की कीमत की वसूली के लिए सर्टिफिकेट केश का आदेश जारी किया है।

जिलाधिकारी राजीव कुमार ने बताया कि जिला प्रबंधक SFC को स्थिति स्पष्ट करने का निर्देश दिया जा रहा है। साथ ही इस मामले में क्या लापरवाही बरती गई है, उसके लिए कौन रिस्पॉन्सिबल है और अगर कोई नुकसान हुआ है खाद्यान्न का तो जिनके कारण नुकसान हुआ है, उनके विरुद्ध सर्टिफिकेट केस करके कीमत वसूल की जाए।

 

- Advertisement -