LAC पर गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में झारखंड के 2 शहीद

0
235
LAC पर गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प में झारखंड के दो लाल- कुंदन ओझा और गणेश हांसदा ((जिनकी तस्शवीर है) हुए हैं।
LAC पर गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प में झारखंड के दो लाल- कुंदन ओझा और गणेश हांसदा ((जिनकी तस्शवीर है) हुए हैं।

रांची/ दिल्ली। LAC पर गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प में झारखंड के दो लाल- कुंदन ओझा और गणेश हांसदा शहीद हुए हैं। कुंदन ओझा साहिबगंज जिले के डिहारी गांव के रहने वाले हैं। पहले कुंदन ओझा के शहीद होने की सूचना आई थी। आज गणेश हांसदा की शहादत की जानकारी मिली है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भारत-चीन सीमा में हिंसक गतिरोध के दौरान झारखंड के गणेश हांसदा के शहीद होने पर दुःख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब-जब देश की सीमा और संप्रभुता पर हमला हुआ है, झारखंडी सपूतों ने अपने प्राणों की आहुति दे उसकी रक्षा की है। कल भी झारखंडी वीर कुंदन ओझा के शहीद होने की खबर आई थी। देश की संप्रभुता की रक्षा में वीर झारखंडी सपूतों का बलिदान सदियों तक याद रखा जाएगा।

- Advertisement -

चीनी सैनिकों के साथ गलवान घाटी में हुई झड़प में शहीद हुए 20 जवानों की सूची में झारखंड के एक और सपूत ने सीमा की सुरक्षा को लेकर अपने प्राणों की आहूति दी है। वीरगति प्राप्त करने वाले गणेश हांसदा पूर्वी सिंहभूम जिले के बहरागोड़ा के निवासी थे। बिहार के भी कई जवान सीमा पर मंगलवार को शहीद हुए हैं।

पीएम का आया बयान, बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा

LAC पर गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बुधवार को पहली बार बयान आया। उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि भारतीय जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। कोरोना से निपटने को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने 15 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक शुरू होने से पहले यह बात कहीं। बैठक शुरू होने से पहले चीन सीमा पर हिसंक झड़प में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई।

पीएम मोदी ने कहा, ‘किसी को भ्रम, संदेह नहीं होना चाहिए। भारत उकसाने पर यथोचित जवाब देने में सक्षम है। भारत शांति चाहता है, लेकिन जवाब देना भी अच्छे से जानता है। पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं देश को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। भारत अपनी अखंडता से समझौता नहीं करेगा। हमारे सैनिक मारते-मारते हुए मरे हैं।’

- Advertisement -