दवा दुकान में 5 लाख की चोरी और 2 हत्याओं से अरवल में हड़कंप, रोड जाम

0
200

अरवल। जिले के कलेर प्रखंड के महेंदिया स्थित एक मेडिकल दुकान में चोरी की घटना को अंजाम दिया गया। चोरों ने चार लाख नकद सहित एक लाख रुपए के सामान की चोरी की। इस दरम्यान दो लोगों की हत्या भी कर दी गई।

इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार  महेंदिया मार्केट में हरेराम कुमार मेडिकल की दवा  की एक दुकान है। बीते शनिवार की रात्रि दस बजे के करीब हरेराम कुमार अपनी मेडिकल दुकान बंद कर अपने घर खुशडीहरा  चले गए थे। अहले सुबह  रविवार के दिन जब वे अपनी दुकान खोलने आए तो देखा कि दुकान के शटर से ताले गायब हैं।

- Advertisement -

पहले तो उन्हें लगा कि दुकान बंद करने में कहीं चूक हो गई होगी। लेकिन बहुत जल्द ही इनकी समझ में यह बात आ गई की दुकान में चोरी हुई है। तब इन्होंने दुकान के बगल में सोए रात्रि प्रहरी मधेश्वर यादव को आवाज़ लगाई। आवाज देने के बाद भी वह नहीं जगा तो नजदीक जाकर उसे जगाने का प्रयास किया। जैसे ही हरेराम कुमार मधेशवर यादव के नजदीक गए तो देखा कि इसकी हत्या कर दी गई है।

तब हरेराम बगल में सोए एक और व्यक्ति अखिलेश राम को  जगाने गए तो देखा कि उसकी भी हत्या कर दी गई है। इन दो हत्याओं को देख कर हरेराम कुमार ने भागते हुए इसकी सूचना अन्य दुकानदारों को दी। यह  सूचना आग की तरह पूरे क्षेत्र में फैल गई। देखते ही देखते सैकड़ों की संख्या में लोग घटनास्थल पर पहुंच गए एवं एन एच 139 को जाम कर दिया।

जाम की सूचना पाकर मेहंदिया थानाध्यक्ष  स्वराजकुमार घटनास्थल पर पहुंचे। लोग काफी आक्रोश में थे एवं घटनास्थल पर वरीय पदाधिकारी को बुलाने की मांग कर रहे थे। कुछ ही देर बाद अरवल डीएसपी शैलेंद्र कुमार  घटनास्थल पर पहुंचे। फिर भी आक्रोशित लोग शांत नहीं हुए। उसके बाद अरवल एसपी उमाशंकर प्रसाद घटनास्थल पर पहुँचे। उन्होंने घटना की पूरी जानकारी प्राप्त की। दोषी पुलिस  कर्मियों पर कारवाई की बात कही। घटना का उद्भेदन  यथाशीघ्र थानाध्यक्ष को करने को कहा। इतना कुछ होने के बाद भी आक्रोशित लोग सड़क जाम समाप्त करने को तैयार नहीं थे। वे लोग वरीय पदाधिकारियों को बुलाने के अलावा मृतकों के आश्रितों को सरकारी नौकरी, चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता एवं इंदिरा आवास देने की मांग कर रहे थे।

मौके पर उपस्थित डीसीएलआर, बीडीओ, सीओ ने 20 हजार  रुपए परिवारिक लाभ एवं एक लाख का दुर्घटना बीमा एवं इंदिरा आवास देने की बात कही। तब जाकर आक्रोशितों का आक्रोश शांत हुआ एवं आवागमन सुचारू रूप से चालू हुआ। हालात को सामान्य बनाने में  लोजपा जिला अध्यक्ष सुभाष यादव, बसपा जिलाध्यक्ष मनोज यादव,  माले नेता जितेंद्र यादव, रविंद्र यादव, प्रखंड प्रमुख काशीराम, मुखिया विमला देवी, मुखिया आनंद सिन्हा, मुखिया रविंदर यादव की भूमिका अहम रही।

यह भी पढ़ेंः राज्य फसल सहायता योजना केंद्र की योजना को नकारना नहीं हैः नीतीश

- Advertisement -