झारखंड में कोरोना के 5 नये मरीज मिले, 9 स्वस्थ होकर लौटे

0
70
झारखंड स्वास्थ्य सेवा के मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों को राज्य सरकार ने सेवा अवधि में विस्तार करने का निर्णय लिया है।
झारखंड स्वास्थ्य सेवा के मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों को राज्य सरकार ने सेवा अवधि में विस्तार करने का निर्णय लिया है।

रांची। झारखंड में गुरुवार को 5 नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले। दूसरी ओर सुखद खबर यह रही कि 9 मरीज स्वस्थ होकर घर गये। नये पाजिटिव मामले सभी पलामू के हैं। ये सभी छत्तीसगढ़ से भागकर आये थे। नये मरीजों के मिलने के साथ ही झारखंड में कोरोना संक्रमण के 132 मामले हो गये हैं।

गुरुवार को रांची के रिम्स अस्पताल से कोरोना के 9 मरीज ठीक हो कर निकले हैं। इन सभी की रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आती रही है। इस खबर से जिला प्रशासन सहित उन मरीजों के परिवार वालों में खुशी है। साथ ही सभी ने एक स्वर में ठीक होकर निकले मरीजों के लिए कहा, “आप हैं विजेता”। रिम्स रांची में पहली बार ऐसा हुआ है कि एक साथ 9 मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

- Advertisement -

गुरुवार को कोरोना ड्यूटी पर लगे जिला प्रशासन एवं रिम्स कर्मियों के चेहरे पर अचानक मुस्कान की लकीरें देखने को मिलीं, जब रिम्स से यह खबर आई कि एक साथ 9 मरीजों की कोविड-19 सैंपल रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आई है और ये सभी 9 संक्रमित कोरोना मुक्त घोषित किए जाते हैं।

रिम्स के कोरोना वार्ड में तैनात डॉक्टरों की टीम ने यह खबर सुनी तो वे खुशी से फूले नहीं समाए। उन्होंने कहा कि जब भी कोई मरीज यहां से ठीक होकर निकलता है तो यह हमारे लिए किसी जीत से कम नहीं होती है। यह कोरोना के खिलाफ़ लड़ाई में जीत की तरफ बढ़ रहे हमारे कदमों का एक नमूना है। हम जल्द ही पूरी रांची से कोरोना को खत्म कर देंगे।

यह भी पढ़ेंः रोटियां जुगाड़ने-सहेजने का वक्त है यह, जानिए क्यों और कैसे

रांची के उपायुक्त राय महिमापत रे ने कहा, “यह हमारे जिला के लिए एक अच्छी एवं पॉजिटिव खबर है। हम उस दौर में हैं, जहां ‘नेगेटिव’ होना खुशी की बात हो गई है। लेकिन जल्द ही हम सभी कोरोना के खिलाफ़ इस लड़ाई में जीत हासिल करेंगे और पूरे जिला भर को इससे मुक्त कर पॉजिटिव डायरेक्शन में आगे बढ़ेंगे। उन्होंने कहा, “मेरी सभी रांचीवासियों से अपील है कि कोरोना से बचें, दूसरों को भी बचाएं, सोशल/ फिजिकल डिस्टेन्सिंग का पालन करें, लेकिन दिलों में दूरियां न बनाएं। साथ ही, ठीक होकर लौटने वाले मरीजों के साथ किसी भी प्रकार का सामाजिक दुर्व्यवहार न पनपे, इसके लिए खुद और दूसरों को भी जागरूक करें।”

यह भी पढ़ेंः गांव छोड़ब नहीं, जंगल छोड़ब नहीं, मायं माटी छोड़ब नहीं..

- Advertisement -