अटल जी के निधन से पूरा देश मर्माहत, एक युग का अंत: भाजपा

0
232

पटना। भारतीय राजनीति में उनका योगदान अतुलनीय है। भारतीय राजनीति में ऐसे  बहुत कम राजनीतिज्ञ हुए है, जिनकी इज्ज़त समस्त विपक्षी दल भी करते है, अटल जी उनमे से एक थे। भाजपा प्रदेश महामंत्री श्री राजेन्द्र सिंह ने कहा, “अटल जी के निधन से भारतीय राजनीति की  अपूरणीय क्षति हुई है।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्री राजीव रंजन ने कहा, “पांच साल के उनके प्रधानमंत्री पद के कार्यकाल में हुए विकास कार्य हमेशा हमारे देश में बनने वाली विभिन्न सरकारों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत रहेगा। यह अटल जी की ही देन कही जायेगी कि हमारा देश आज परमाणु शक्ति संपन्न राष्ट्रों में गिना जाता है। परमाणु परीक्षण के बाद देश पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों के बावजूद उनके कार्यकाल में देश का विकास के नए आयामों को छूना, अटल जी की कुशल नीतियों और दक्ष आर्थिक प्रबन्धन का सबसे बड़ा सबूत है।

- Advertisement -

यह भी पढ़ेंः बिहार-झारखंड में सात दिनों का राजकीय शोक, शुक्रवार को अवकाश

प्रदेश उपाध्यक्ष श्री सम्राट चौधरी ने कहा, “कोई नही भूल सकता है कि कैसे उनके कार्यकाल में भारत ने आईटी और टेलिकॉम के क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति की थी। प्रखर वक्ता और कवि हृदय वाले अटल जी देश के शौर्य और सम्मान की रक्षा के लिए किस तरह दृढप्रतिज्ञ थे, यह कारगिल युद्द के समय पूरे  भारतवर्ष ने देखा। इसके अलावा यूएन में पहली बार हिंदी में दिया उनका भाषण कौन भूल सकता है।

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री देवेश कुमार ने कहा, “यह अटल जी की दूरदर्शिता का ही परिणाम है कि भाजपा 2 सीट से आगे बढ़ आज इस मुकाम तक पंहुच चुकी है। श्यामा प्रसाद मुखर्जी और दीनदयाल उपाध्याय सरीखे नेताओं के साथ से जनसंघ के रूप में जो बीज बोया गया था, यह अटल जी जैसे नेताओं की अथक मेहनत का परिणाम ही है कि आज वह बीज वटवृक्ष बन चुका है।

पूर्व मंत्री श्री भीम सिंह तथा श्री नीतीश मिश्र एवं भाजपा प्रदेश महामंत्री श्री प्रमोद चन्द्रवंशी, भाजपा अतिपिछडा मोर्चा के अध्यक्ष श्री जयनाथ चौहान तथा महामंत्री श्री शंभू शरण पटेल आदि ने अटल जी की प्रेरणा तथा मार्गदर्शन अमूर्त रूप से सदैव भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच विद्यमान रहने की बात कहते हुए, भाजपा के एक-एक कार्यकर्ता के अटल जी नीतियों पर चलते हुए देश निर्माण के कार्य में तन-मन से लगे रहने की बात कही। उन्होंने कहा कि देश हित में अपना संपूर्ण जीवन व्यतीत करने वाले अटल जी के लिए यही हमारी सच्ची श्रद्धांजली होगी।

यह भी पढ़ेंः हार नहीं मानूंगा…कहने वाले अटल जी आखिरकार मौत से हार गये

- Advertisement -