भावुकता में नरेंद्र मोदी के बारे में क्या बोल गये मुलायम, जानिए

0
108

नयी दिल्ली। संसद अपने आखिरी सत्र के दिन अजीबोगरीब स्थिति का गवाह बनी। भाजपा के धुर विरोधी समाजवादी पार्टी के संरक्षक व देश के कद्दावर नेता मुलायम सिंह यादव ने लोकसभा में नरेंद्र मोदी की जम कर तारीफ की। तारीफ का आलम यह था कि उन्होंने मोदी के लिए यह कामना भी की कि अगली बार फिर वही प्रधानमंत्री बन कर आयें।

काउ बेल्ट में जबरदस्त पकड़ रखनेवाले मुलायम सिंह के इस बयान को सियासी जगत में बड़ा माना जा रहा है। खासकर जब लोकसभा चुनाव में तकरीबन 100 दिन शेष हैं और दिल्ली में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नीत भाजपा सरकार के विरोध में विपक्षी दलों की मेगा रैली हो रही हो। दिलचस्प बात यह है कि सदन में जब मुलायम अपनी बात रख रहे थे, यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी उनके ठीक बगल में बैठी थीं।

- Advertisement -

मुलायम यादव ने लोकसभा बजट सत्र के आखिरी दिन अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की खूब तारीफ की। सभी सांसद इस लोकसभा में अपना आखिरी भाषण दे रहे थे। मुलायम यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके कार्यकाल की बधाई दी और दायां हाथ उठा कर नरेंद्र मोदी की ओर इशारा करते हुए कहा, आप फिर प्रधानमंत्री बनें! हम प्रार्थना करते हैं कि जो सदस्य इस समय सदन में बैठे हैं, वे दोबारा चुन कर आएं। उन्होंने कहा कि हम लोग (विपक्ष) अभी संख्या में काफी कम हैं। मैं कामना करता हूं कि आप (नरेंद्र मोदी की तरफ इशारा करते हुए) फिर प्रधानमंत्री बनें। मुलायम सिंह ने नरेंद्र मोदी की सबको साथ लेकर चलने के लिए प्रशंसा की। कहा, आप सभी को साथ लेकर चलने में सफल भी हुए हैं।

मुलायम सिंह के इस बयान के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाथ जोड़ कर और सिर झुका कर उनका अभिवादन किया। हालांकि मुलायम सिंह जब मोदी की तारीफ के पुल बांध रहे थे, तब सदन में ठहाके गूंजने लगे और तालियां बजने लगीं। मुलायम यादव ने लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन की भी अच्छे तरीके से सदन चलाने के लिए बधाई दी।

मुलायम सिंह की मोदी के प्रति मंगलकामना के राजनीतिक मायने हैं। खासकर तब, जब लोकसभा चुनाव होने में तकरीबन तीन महीने बचे हैं। लोकसभा चुनाव की सबसे बड़ी जंग उत्तर प्रदेश में लड़ी जा रही है। सूबे की 80 लोकसभा सीटों पर ताल ठोकने के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने गठबंधन किया है। मुलायम यादव के बेटे अखिलेश यादव व बसपा नेता मायावती भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिए जी-जान से जुटे हैं। भाजपा को सूबे में 2014 चुनाव में 71 सीटों पर जीत मिली थी। सपा-बसपा गठबंधन के बाद राजनीतिक पंडित 2019 में भाजपा के समक्ष मुश्किलों का आकलन कर रहे हैं।

केंद्र में आरूढ़ नरेंद्र मोदी सरकार के विरोध में विरोधी दलों की बुधवार को ही जंतर मंतर पर मेगा रैली हुई। ठीक उसी दिन लोकसभा में पिछड़ों के कद्दावर नेता व पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम यादव द्वारा नरेंद्र मोदी की तारीफ करना विपक्षी एकता में भाजपा की कोशिश करार दी जा रही है। मेगा रैली का आयोजन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किया। इसमें आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, पं.बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार समेत कांग्रेस के प्रतिनिधी को शामिल हुए।

यह भी पढ़ेंः

नरेंद्र मोदी की पहले भी प्रशंसा कर चुके हैं मुलायम

सपा के संरक्षक मुलायम यादव को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते कई बार सुना गया है। अक्सर सपा की  कार्यकर्त्ता बैठक में नरेंद्र मोदी से सीख लेने की सलाह देते उन्हें सुना गया है। वे कहते थे, एक गरीब व पिछड़े वर्ग का बेटा अपनी मेहनत से कहां पहुंचा है। जबकि उत्तर प्रदेश की चुनावी सभाओं में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रदेश में बाप-बेटे की सरकार कह कर तंज करते थे।

यह भी पढ़ेंः ममता की सियासी इंजीनियरिंग से कांग्रेस व वामपंथियों को झटका

वैसे तो मुलायम यादव और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अलग-अलग विचारधारा और सियासी दल में हैं, लेकिन नरेंद्र मोदी को मुलायम सिंह का सदन से लेकर सड़क तक इज्जत करते देखा गया है। प्रधानमंत्री मोदी बहुत ही कम व्यक्तिगत समारोहों में शरीक होते हैं, लेकिन वे 2017 में मुलायम यादव के बुलावे पर शौक से गये और उनसे हिल-मिलकर रिश्ते भी निभाये।

यह भी पढ़ेंः

- Advertisement -