जेल और बेल वाले लोग ही चौकीदार को दे रहे गालीः सुशील मोदी

0
95
महम्मदपुर नरसंहार के असली साजिशकर्ता राजेश यादव को को नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव का संरक्षण प्राप्त है। सुशील मोदी ने यह आरोप लगाया है।
महम्मदपुर नरसंहार के असली साजिशकर्ता राजेश यादव को को नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव का संरक्षण प्राप्त है। सुशील मोदी ने यह आरोप लगाया है।

पटना। बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने लालू और सोनिया के परिवार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि जेल और बेल वाले लोग ही चौकीदार को गाली दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में सजायफ्ता लालू प्रसाद, 750 करोड़ के मॉल व बेनामी सम्पत्ति के  मामले में तेजस्वी यादव व नेशनल हेराल्ड मामले में बेल पर बाहर रहने वाले राहुल गांधी चौकीदार (प्रधानमंत्री) को चोर कह कर गाली दे रहे हैं। क्या ये सभी किसी राजनीतिक आंदोलन के मामले में जेल और बेल पर हैं? हजार करोड़ के चारा घोटाले के चार-चार मामलों में सजायाफ्ता जेल में बंद लालू प्रसाद, जो मुखिया तक का चुनाव नहीं लड़ सकते हैं और रेलवे टेंडर घोटाले तथा 29 वर्ष की उम्र में 53 बेनामी सम्पत्ति के मामले में बेल पर रहने वाले तेजस्वी यादव अपनी बेनामी सम्पति को बचाने के लिए चौकीदार को चोर कह रहे हैं।

जिस यूपीए के कार्यकाल में टूजी, कोलगेट, आदर्श हाउसिंग सहित करीब 1.76 लाख करोड़ के घोटाले हुए, नेशनल हेराल्ड सम्पति घोटाले में आज सोनिया और राहुल गांधी बेल पर हैं, राहुल गांधी के जीजा रॉबर्ट वाड्रा पर जमीन घोटाले व लंदन में 19 लाख पाउंड की सम्पति खरीद में मनी लाउंड्रिंग के मामले में ईडी कार्रवाई कर रही है, वे सब चौकीदार को चोर कह रहे हैं।

- Advertisement -

चौकीदार की सख्ती से खौफजदा ये भ्रष्टाचारी राजनेता ‘चारे मचाये शोर’ की कहावत की चरितार्थ कर रहे हैं। गाली देने वालों को जनता अपने वोट की ताकत से जवाब देगी।

अपने ट्वीट में श्री मोदी ने कहा कि लालू प्रसाद ने पहले अपने परिवार की सबसे ज्यादा पढ़ी-लिखी बड़ी बेटी को किनारे करने की कोशिश की, फिर छोटे बेटे को डिप्टी सीएम और नेता विरोधी दल जैसे बड़े पद देकर बड़े बेटे का लगातार अपमान किया। बड़े बेटे के समर्थकों को दल में कोई बड़ी जिम्मेदारी नहीं दी गई और अब लोकसभा का टिकट देने में भी यही रवैया अपनाया गया, जिससे असंतोष की चिंगारी ज्वाला बन रही है। उन्होंने कहा कि जो लोग परिवार के भीतर न्याय नहीं कर पाये, वे सामाजिक न्याय क्या करेंगे? इनके अन्याय का घड़ा भर चुका है।

यह भी पढ़ेंः अपराधियों-आतंकियों से ज्यादा जानलेवा साबित हो रहा प्रदूषण

- Advertisement -