पारा शिक्षकों के मामले पर संज्ञान लेते हुये उच्च स्तरीय समिति की बुलाई गई बैठक

0
72

पारा शिक्षकों के मामले पर संज्ञान लेते हुये शिक्षा मंत्री ने उच्च स्तरीय समिति की बुलाई बैठक

झारखण्ड : शिक्षा मंत्री डा नीरा यादव ने पारा शिक्षकों की चली आ रही हड़ताल पर आज संज्ञान लेते हुये उच्च स्तरीय समिति की बैठक बुलाई, जिसमें एकीकृत पारा शिक्षक संघष मोर्चा के प्रतिनिधियों को उनका विचार जानने के लिये आमंत्रित किया गया।

सरकार ने अब तक सभी मांगों को पूरा किया

बैठक में मंत्री डा नीरा यादव ने पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के प्रतिनिधियों से कहा कि सरकार उनके प्रति संवेदनशील है। समय-समय उनकी द्वारा की गई मांग को सरकार ने पूरा किया है।
संघर्ष मोर्चा के प्रतिनिधियों ने कहा कि सरकार ने अब तक उनकी सभी मांगों को पूरा कर दिया है लेकिन अब तक पारा शिक्षक नियोजन नियमावली एवं वेतनमान संबंधी मांग पूरी नहीं की गई है। इस दिशा में सरकार जल्द से जल्द विचार करे।

- Advertisement -

यह भी पढ़े : संथाल की आदिवासी महिलाओं को गुमराह किया गया: रघुवर

पारा शिक्षक नियोजन नियमावली पर जल्द से जल्द सुझाव समर्पित करें

बैठक में एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के प्रतिनिधियों से पारा शिक्षक नियोजन नियमावली पर आवश्यक निर्णय लेने से पूर्व उनके सुझाव जल्द से जल्द उपलब्ध कराने को कहा गया ताकि उनके सुझाव को भी संज्ञान में लेते हुये पारा शिक्षक नियोजन नियमावली एवं वेतनमान संबंधी मांग पर आवश्यक निर्णय समिति द्वारा निर्णय लिया जा सके। समिति द्वारा एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा को ऐसे सुझाव देने को कहा गया कि जिससे बच्चों के गुणवत्तापूर्ण शिक्षा अक्षुण्ण रहे, पारा शिक्षकों के मान-सम्मान के अनुरुप हो तथा शिक्षक के लिये निर्धारित अनिवार्य अहर्ता के अक्षुण रहे।

यह भी पढ़े : झारखंड की बेटियों को मुख्यमंत्री सुकन्या योजना का लाभ जरूर मिले 

पारा शिक्षकों के प्रतिनिधियों द्वारा बताया गया कि उन्होंने देर शाम अपना सुझाव विभाग को उपलब्ध करा दिया है। विभाग से जानकारी मिली है कि सुझावों पर विचार करते हुए जल्द ही नियमावली बना दी जाएगी।बैठक में अपर मुख्य सचिव सह विकास आयुक्त सुखदेव सिंह, अपर मुख्य सचिव योजना सह वित्त विभाग के के खण्डेलवाल, प्रधान सचिव स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग अमरेन्द्र प्रताप सिंह, राज्य परियोजना निदेशक, झारखण्ड शिक्षा परियोजना परिषद, उमा शंकर सिंह उपस्थित थे।

- Advertisement -