संपूर्ण क्रांति- जेपी के दो शब्दों से बदल गयी थी देश की सियासी तस्वीर

0
108
वर्ष 1974 की तारीख 5 जून. यही वह दिन था, जब जयप्रकाश नारायण (जेपी) ने पटना के गांधी मैदान में दो शब्दों- संपूर्ण क्रांति का नारा दिया था.
वर्ष 1974 की तारीख 5 जून. यही वह दिन था, जब जयप्रकाश नारायण (जेपी) ने पटना के गांधी मैदान में दो शब्दों- संपूर्ण क्रांति का नारा दिया था.
  • ओमप्रकाश अश्क

वर्ष 1974 की तारीख 5 जून. यही वह दिन था, जब जयप्रकाश नारायण (जेपी) ने पटना के गांधी मैदान में दो शब्दों- संपूर्ण क्रांति का नारा दिया था. तकरीबन ढाई साल में इन दो शब्दों ने देश की सियासत में भूचाल ला दिया. आजादी के बाद से सत्ता पर काबिज कांग्रेस के आखिरकार पांव उखड़ गये थे. जनता ने 1977 में विपक्षी दलों के गंठजोड़ से बनी जनता पार्टी के हाथ में सत्ता की बागोडार सौंप दी. संपूर्ण क्रांति की इस बड़ी सफलता को याद करने के लिए गैर कांग्रेसी दल हर साल 5 जून को संपूर्ण क्रांति दिवस मनाते हैं. बिहार के पटना में जेपी ने यह नारा दिया था, इसलिए राष्ट्रीय राजनीति में बदलाव के लिए समय-समय पर इसका राजनीतिक इस्तेमाल भी होता रहा है. इस बार बिहार की दूसरी बड़ी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने संपूर्ण क्रांति दिवस पर बड़े आयोजन का फैसला किया हैं. उम्मीद की जा रही है जमानत के बाद स्वास्थ्य कारणों से दिल्ली में रहने के बाद पटना लौटे लालू प्रसाद यादव भी इस कार्यक्रम में शिरकत कर सकते हैं.

क्या था संपूर्ण क्रांति का उद्देश्य

वर्ष 1971 में पाकिस्तान से अलग होकर बांग्लादेश के निर्माण तक तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की लोकप्रियता ने उन्हें उसी साल भारी बहुमत से सत्ता सौंपी थी. पहले से ही महंगाई, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार से तबाह जनता ने पाकिस्तान को तोड़ कर बांग्लादेश बनाने की इंदिरा की कूटनीतिक पहल की कामयाबी पर सत्ता को तोहफा तो दे दिया, लेकिन उसकी समस्याओं का समाधान यथावत रहा. समय के साथ इंदिरा गांदी के शासन के प्रति जनता में आक्रोश पलता-बढ़ता रहा. जन आक्रोश पहली बार मुखर तब हुआ, जब फीस वृद्धि और बढ़ती महंगाई के मुद्दे पर गुजरात में छात्रों आंदोलन शुरू हुआ. इस आंदोलन की गूंज देश के दूसरे राज्यों में भी सुनाई देने लगी, लेकिन बिहार में गुजरात से बड़ा आंदोलन कुलबुला रहा था.

- Advertisement -

बिहार के छात्रों ने छात्र वाहिनी बना कर सरकार के खिलाफ आंदोलन तो शुरू किया, लेकिन उनके पास सर्वस्वीकार्य नेतृत्व का अभाव था. छात्रों ने जेपी यानी जयप्रकाश नारायण से संपर्क किया. उन दिनों वे सक्रिय राजनीति से अलग होकर सामाजिक कार्यों में अपना समय बिता रहे थे. आखिरकार नेतृत्व के लिए वे तैयार हुए और 5 जून 1974 को पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में विशाल रैली हुई. उस वक्त के लोग बताते हैं कि उतनी भीड़ उसके बाद कभी भी गांधी मैदान में नहीं जुटी. उसी रैली में जेपी ने दो शब्दों- संपूर्ण क्रांति का नारा दिया. इसके चार अहम उद्देश्य थे. पहला यह कि राजनीतिक क्रांति हो, दूसरा- सामाजिक क्रांति हो, तीसरा सांस्कृतिक क्रांति हो और चौथा- वैचारिक क्रांति हो. राम मनोहर लोहिया की सप्त क्रांति के तर्ज पर जेपी ने संपूर्ण क्रांति का नारा दिया.

और इसके साथ ही विपक्ष की गोलबंदी शुरू हो गयी

संपूर्ण क्रांति के आह्वान के साथ ही विपक्ष दलों की गोलबंदी शुरू हुई. अभी की भाजपा और तत्कालीन जनसंघ के साथ समाजवादी पार्टियां एक मंच पर आयीं. गुजरात से शुरू हुए छात्र आंदोलन की आग बिहार होते हुए पूरे देश में फैल गयी. जनता महंगाई और भ्रष्टाचार से तो तबाह होकर पहले से ही बदलाव के लिए बेचैन थी. इसी बीच इंदिरा गांधी के चुनाव को चुनौती देने वाली समाजवादी नेता राजनारायण की याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुना दिया. इंदिरा की सदन की सदस्यता खत्म हो गयी. उन्होंने बौखलाहट में 25 जून 1975 की आधी रात से देश में इमरजेंसी की घोषमा कर दी. विपक्ष के तमाम बड़े नेताओं को गिरफ्तार कर जेलों में ठूंसा जाने लगा. जेपी को भी जेल में डाल दिया गया. पहले से ही नाराज जनता का गुस्सा इस पर भड़क उठा और 1977 के आम चुनाव में न सिर्फ इंदिरा गांधी हारीं, बल्कि कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया.

जेपी ने सात क्रांतियों को संपूर्ण क्रांति में शामिल किया

जयप्रकाश नारायण ने संपूर्ण क्रांति का नारा देते हुए इसे स्पष्ट भी किया था कि इसके दायरे में क्या-क्या बातें आएंगी. इसमें उन्होंने सात क्रांतियों का जिक्र किया- राजनैतिक, आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, बौद्धिक, शैक्षणिक और आध्यात्मिक क्रांति. इन सभी क्रांतियां से ही क्रांति संपूर्ण होगी. इन क्रांतियों का मकसद भी उन्होंने बताया- ’संपूर्ण क्रांति से मेरा तात्पर्य समाज के सबसे अधिक दबे-कुचले व्यक्ति को सत्ता के शिखर पर देखना है.’ जेपी के इस आह्वान के बाद जातिगत भेदभाव मिटाने के अबियान के तहत ही कई लोगों ने अपने नाम से जाति सूचक उपाधियां हटा ली थीं. इनमें लालू प्रसाद, नीतीश कुमार बिहार के प्रमुख नेता थे. जनेऊ तोड़ो अभियान की शुरुआत तो उसी वक्त गांधी मैदान में शुरू हो गयी, जब जेपी ने इसका आह्वान किया- जाति छोड़ो-जनेऊ तोड़ो. आंदोलनरत छात्र वाहिनी के लोगों ने जाति तोड़ कर तिलक-दहेज रहित शादियां भीं कीं. लालू, नीतीश, सुशील कुमार मोदी, रामविलास पासवान उसी छात्र वाहिनी से निकले हुए नेता हैं, जो जेपी की संपूर्ण क्रांति को सफल बनाने के लिए घर-घर अलख जमाने के काम में उस वक्त जुटे थे.

जेपी के जाति तोड़ो क्रांति की हवा निकल गयी बिहार में

बिहार में जेपी की संपूर्ण क्रांति की जाति तोड़ो क्रांति की हवा निकल गयी. इस क्रांति के ध्वज वाहक लालू प्रसाद यादव की पार्टी आरजेडी ने एम-वाई जैसे जातीय समीकरण के बूते चुनाव लड़ना शुरू कर दिया. अब तो जातीय जनगणना की मुखर मांग करने वाली पार्टी भी आरजेडी हो गयी है. जातीय विषमताओं की नींव तो तभी पड़ गयी थी, जब तत्कालीन प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह ने मंडल आयोग की सिफारिशों को लागू करने का फैसला किया. बिहार में इसे लागू कराने वालों में मुख्य भूमिका लू प्रसाद की रही. अगड़े-पिछड़ों के बीच खूनी खेल उस वक्त के लोगों ने देखा है. कई वर्षों बाद शांति लौटी थी.

यह भी पढ़ेंः जयप्रकाश जी ने कहा था- आग तो तुम्हारी कुर्सियों के नीचे सुलग रही है

यह भी पढ़ेंः संपूर्ण क्रांति के लिए जेपी ने पुलिस से जो कहा, वही अमेरिका में हो रहा

- Advertisement -