केंद्र की योजनाएं बदल रही ग्रामीण भारत की तस्वीरः भाजपा

0
54

पटना। केंद्र की योजनाओं से पिछले चार वर्षों में ग्रामीण भारत की दशा और दिशा में अभूतपूर्व बदलाव आया है। प्रदेश भाजपा प्रवक्ता सह पूर्व विधायक श्री राजीव रंजन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने पिछले चार साल में अपने सुधारवादी और परिवर्तनकारी कदमों के साथ ऐसी कई योजनाएं शुरू की हैं, जो आज ग्रामीण भारत की तस्वीर बदलने में क्रांतिकारी भूमिका अदा कर रही हैं। प्रधानमंत्री जनधन योजना,  प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना, सभी के लिए एलईडी बल्ब वाली उन्नत ज्योति योजना, मिशन इंद्रप्रस्थ जैसी प्रमुख योजनाएं आज गरीबों, वंचितों और आम लोगों के सामाजिक और आर्थिक उत्थान में अहम भूमिका निभा रही हैं।

उन्होंने कहा कि गरीब और कम आय वाले लोगों को सशक्त करने के लिए प्रधानमंत्री जी की कृतसंकल्पिता ही है, जिससे देश में पहली बार उन गरीबों का बैंक खाता खुला, जिन्होंने बैंक का कभी मुंह तक नहीं देखा था। आज इस योजना के अंतर्गत 32 करोड़ से ज्यादा गरीबों के बैंक खाते खुल चुके हैं। सरकारी स्कीमों के पैसे इनमें डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर से पहुंच रहे हैं, जिससे लाभार्थियों के पैसे में होने वाले भ्रष्टाचार पर लगाम लग गई है। इसके अलावा प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना ने ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली गरीब महिलाओं के जीवन के प्रति नजरिये को सकारात्मक रूप से बदलने का काम किया है। महिला सशक्तीकरण की दिशा में सबसे बड़ा प्रत्यक्ष उदाहरण बनी इस स्कीम के तहत शुरू होने के बाद से अब तक 5 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को गैस कनेक्शन दिये जा चुके हैं।

- Advertisement -

स्वच्छ भारत अभियान की बात करें तो अभी तक देश के लाखों गांव खुले में शौच के अभिशाप से मुक्त हो चुके हैं। वहीं मुद्रा योजना के तहत आज ग्रामीण क्षेत्रों के करोड़ों छोटे और मझोले कारोबारियों के लिए आजीविका के नए दरवाजे खुले हैं। ज्ञातव्य हो कि देश में रोजगार के मायने बदलने वाली इस योजना के तहत वितरित हुए 13 करोड़ से अधिक लोनों में से लगभग 70 प्रतिशत लाभार्थी दलित-पिछड़े और आदिवासी हैं, वहीं इस योजना के माध्यम से 8 करोड़ से अधिक महिलाओं ने अपना उद्यम शुरू किया है। यह ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के प्रति केंद्र की प्रतिबद्दता ही है। इन चार वर्षों में आजादी के बाद से आज तक अँधेरे में जी रहे 18,452 गांवों में तय समय से पहले बिजली पंहुच चुकी है, वहीं सौभाग्य योजना के तहत 4 करोड़ गांवों में बिजली पंहुचाने का काम तेजी से चल रहा है। इस योजना के तहत अभी तक 1 करोड़ से अधिक घरों में बिजली पंहुच चुकी है। हकीकत में केंद्र आज ग्रामीण भारत को आर्थिक और सामजिक तौर पर सुदृढ़ करने की दिशा में पूरे ज़ोर-शोर से लगी हुआ है। सरकार के ये प्रयास नए भारत के निर्माण में अहम भूमिका निभाएंगे।

यह भी पढ़ेंः बिहार में से सरकारी पहल बदल रही आधी आबादी और युवाओं की तस्वीर

- Advertisement -