मोदी के तंज पर RJD की सफाई- बलात्कार के आरोपी विधायक बाहर

0
48
आरजेडी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह
आरजेडी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह

PATNA : बलात्कार के आरोपी विधायकों को आरजेडी ने निकाल दिया है। जगदानंद ने यह सफाई दी। बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने इसे लेकर कटाक्ष किया था। सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा था कि जिस पार्टी की सियासी सरपरस्ती मिलने से राजबल्लभ यादव और अरुण  यादव जैसे लोग विधायक बनने पर जनता की सेवा करने के बजाय गरीबों की नाबालिग बेटियों से बलात्कार जैसा अपराध करते हैं, उसे दूसरों को “महिला विरोधी” बताने से पहले अपना घर देखना चाहिए। राजद के दो विधायक जब लालू परिवार की पीड़ित बहू के खिलाफ बयान देते हों, तब बिहार की आम बेटी-बहू इनसे क्या उम्मीद कर सकती है? राजद बताये कि महिला रिजर्वेशन बिल की कापी किसने फाड़ी थी?

इसके बाद राजद के वरिष्ठ नेता जगदानंद सिंह ने मीडिया वालों को बताया कि दोनों विधायकों को पार्टी की प्रारंभिक सदस्यता से निकाल दिया गया है। जब तक वे दोषमुक्त नहीं हो जाते हैं, तब तक पार्टी का उनसे कोई लेना-देना नहीं है। श्रींह के मुताबिक यह कदम काफी पहले ही उठा लिया था।

- Advertisement -

सुशील मोदी ने एक इन्य ट्वीट में कहा राजद को आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि राजद ने महागठबंधन के घटक दलों से राय लिए बिना 2020 के विधानसभा चुनाव के लिए जिन्हें सीएम  प्रत्याशी घोषित किया, उन पर किसी दल का विश्वास ही नहीं है। वे पिछले 32 महीनों में विरोधी दल के नेता के रूप में कोई भरोसेमंद छवि नहीं बना सके। मोदी का इशारा तेजस्वी यादव की ओर था। उन्होंने कहा कि राजद के बड़े नेता चमकी बुखार और बाढ़ जैसी आपदा के समय जनता के बीच नहीं दिखे। सदन में जनहित का एक भी सवाल न पूछने वाले नेता केवल सोशल मीडिया  पर सक्रिय रहे।

तेजस्वी को ट्वीटर ब्वाय बताते हुए उन्होंने कटाक्ष किया कि ऐसे ट्वीटर ब्वाय के नेतृत्व में लोकसभा का चुनाव लड़ने पर पार्टी जीरो पर आ गई। अब उन्हें नेता मानने से कांग्रेस ने भी इनकार कर दिया है। लालू परिवार में पावर वार के साथ-साथ तलाक और घरेलू हिंसा को लेकर दायर मुकदमों से भी राजद के युवराज की हताशा बढ़ी है।

यह भी पढ़ेंः देश के संविधान और आरक्षण पर मंडरा रहा खतराः रघुवंश

- Advertisement -