रांची के उपायुक्त ने किया रिम्स के प्लाज्मा डोनेशन कैंप का दौरा

0
18
रांची के उपायुक्त छविरंजन ने रिम्स के प्लाज्मा डोनेशन कैंप का दौरा किया। गुरुवार को उपायुक्त ने रिम्स स्थित प्लाज़मा डोनेशन कैंप का दौरा किया।
रांची के उपायुक्त छविरंजन ने रिम्स के प्लाज्मा डोनेशन कैंप का दौरा किया। गुरुवार को उपायुक्त ने रिम्स स्थित प्लाज़मा डोनेशन कैंप का दौरा किया।

रांची। रांची के उपायुक्त छविरंजन ने रिम्स के प्लाज्मा डोनेशन कैंप का दौरा किया। गुरुवार को उपायुक्त ने रिम्स स्थित प्लाज़मा डोनेशन कैंप का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने प्लाजमा डोनेशन के लिए पहुंचे एक डोनर से मुलाकात भी की एवं उन्हें प्रशस्ति पत्र तथा प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित किया।

कोविड 19 से संक्रमित मरीजों के इलाज हेतु रिम्स रांची में प्लाजमा थैरेपी की शुरुआत की गई है। इसके मद्देनजर रांची जिला प्रशासन एवं रिम्स के संयुक्त प्रयास से “प्रतिरक्षक: The Saviour” नाम से प्लाज्मा डोनेशन अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत कोविड 19 से ठीक हो चुके मरीजों को प्लाज़मा डोनेशन के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

- Advertisement -

गुरुवार को उपायुक्त छवि रंजन ने प्लाजमा डोनेशन कैंप का दौरा करने के दौरान वहां उपस्थित अधिकारियों से प्लाज्मा डोनेशन से संबंधित पूरी स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने वहां उपस्थित एक डोनर से भी मुलाकात की। डोनर से मिलकर उपायुक्त ने उन्हें लोगों की मदद करने के लिए धन्यवाद दिया। साथ ही, प्रशस्ति पत्र एवं प्रतीक चिह्न देकर उन्हें सम्मानित भी किया।

मोरहाबादी के रहने वाले डोनर विनोद कुमार का उत्साहवर्धन करते हुए उन्होंने कहा, “न सिर्फ जिला प्रशासन, बल्कि पूरी रांची को आप के ऊपर गर्व है। आप जैसे लोग जब तक हैं, तब तक हमें कोरोना से लड़ने की ताकत हमें मिलती रहेगी।” डोनर विनोद कुमार ने उपायुक्त को आश्वस्त करते हुए कहा, “मैं यहां दूसरी बार स्वेच्छा से प्लाजमा डोनेट करने के लिए आया हूं। अगर जरूरत पड़ी तो मैं तीसरी बार भी आऊंगा।”

साथ ही, आमजनों से अपील करते हुए मैं यह कहना चाहता हूं कि प्लाजमा डोनेशन एक प्रकार का रक्तदान ही है। इससे डरने की कोई जरूरत नहीं है। मैं कोविड 19 से ठीक होने के बाद दो बार प्लाज्मा दान कर चुका हूं। आप सभी जो कोई भी प्लाज्मा दान करना चाहते हैं, कृपया रिम्स स्थित कैंप में आएं। यहां किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं है। इसके अतिरिक्त आमजनों के बैठने एवं इंतज़ार करने की समुचित साफ-सुथरी व्यवस्था की गई है।”

उपायुक्त ने बुधवार देर रात  प्लाजमा डोनेट करने रिम्स पहुंचे रांची पुलिस के जवान लल्लू कुमार यादव को वहीं से फोन लगा कर उनका उत्साहवर्धन किया। साथ ही, उन्हें धन्यवाद देते हुए कहा कि आपने बहुत ही अच्छा काम किया है। आपके प्लाज्मा डोनेशन की वजह से किसी व्यक्ति की जान बचाई जा सकती है। हमें आप पर गर्व है।”

आमजनों से अपील करते हुए उपायुक्त ने कहा, “कम से कम 28 दिन या अधिकतम 60 दिन पहले कोविड-19 से ठीक हो चुके लोगों से मेरी अपील है कि आप रिम्स स्थित हमारे प्लाज्मा डोनेशन कैंप में आएं एवं प्लाज्मा डोनेट करें। रांची पुलिस सहित सीआईएसफ, जगुआर के जवानों सहित कई लोगों ने प्लाज्मा डोनेट किया है और कर रहे हैं। इसमें किसी भी प्रकार का कोई खतरा नहीं है। साथ ही, एक बार डोनेट करने के 15 दिनों के बाद आप फिर से प्लाज्मा डोनेट कर सकते हैं।

गौरतलब है कि बुधवार को भी उपायुक्त ने शहर के कई सामाजिक संगठनों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक भी की थी। जहां उन्होंने सभी स्वयं संस्थाओं से आमजनों को प्लाज्मा डोनेशन करने हेतु प्रेरित करने की अपील की थी। उन्होंने कहा था, “सभी लोग अपने अपने स्तर से इस मुहिम की जागरूकता को लेकर प्रयास करें।”

उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमितों के उपचारात्मक उपाय के रूप में प्लाज्मा थेरेपी हेतु प्लाज्मा डोनेशन की आवश्यकता होती है। यह प्लाज्मा दान उन लोगों से स्वैच्छिक रूप से लिया जा रहा है, जो कोरोना से पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। इसके अतिरिक्त उपायुक्त के निदेशानुसार जल्द ही एक प्लाज्मा मैनेजमेंट पोर्टल की भी शुरुआत की जाएगी।

- Advertisement -