कोहरे का कहरः सारण में दो ट्रकों की टक्कर में एक की हुई मौत

0
68

छपरा। सारण जिले के नगरा प्रखंड के नगरा थाना क्षेत्र के अफौर ग्राम में छपरा-मशरक मुख्य पथ पर घने कोहरे के कारण शनिवार को तड़के सुबह 6.5 बजे  दो ट्रकों की टक्कर में एक व्यक्ति की मौत घटनास्थल पर ही हो गई। बालू लाद कर जा रहे एक ट्रक ने खड़े ट्रक में ठोकर मार दी। टक्कर जोरदार थी। इसमें एक की मौके पर मौत हो गयी। प्राप्त जानकारी अनुसार अफौर ग्राम में कौशल विकास प्रशिक्षण केंद्र के सामने मुख्य पथ पर पहले से एक ट्रक खड़ा था। पहले से खड़े ट्रक में  छपरा से नगरा के तरफ बालू लाद कर जा रहे ट्रक ने जबरदस्त ठोकर मार दी, जिसके चलते ठोकर मारने वाले ट्रक के खलासी या सूत्रों  की मानें तो चालक की मौत घटनास्थल पर ही हो गई।

जैसे ही इसकी सूचना ग्राम वासियों को मिली, चारों तरफ से लोग दौड़ कर सड़क पर इकट्ठा हो गए और टायर जला कर छपरा-मशरक मुख्य पथ को  जाम कर दिया। रोड जाम की सूचना जैसे ही नगरा थाना प्रभारी को मिली, वे अपने दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुँच गए। साथ ही  खैरा थाना की पुलिस भी घटनास्थल पर पहुँची। जाम कर रहे लोगों को समझा-बुझा कर खैरा एवं नगरा थाना के प्रभारी ने जाम को हटवाया तथा मारे गये व्यक्ति के शव को सदर अस्पताल पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

- Advertisement -

बताते चलें कि ठोकर मारने के बाद ट्रक का चालक अपनी गाड़ी को छोड़ कर फरार हो गया तथा पहले से जो गाड़ी खड़ी थी, उसका चालक भी अपनी गाड़ी को लेकर भाग गया। मरने वाला मृतक  21 वर्षीय पवन कुमार, पिता- विद्या राय, मुफस्सिल थाना क्षेत्र के तेनुआ पंचायत के  तेनुआ ग्राम का निवासी बताया जाता है। बताते हैं कि पवन ट्रक का वास्तविक चालक है तथा दुर्घटना के वक्त ट्रक उसका खलासी चंदन चला रहा था।

यह भी पढ़ेंः बीए की परीक्षा देने जा रहे बाइक सवार 3 छात्रों की दुर्घटना में मौत 

इधर घटना की सूचना जैसे ही मृतक के परिवार वालों को मिली, घर में कोहराम मच गया। उन लोगों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया। घटनास्थल से मृतक के घर की दूरी करीब 4 किलोमीटर  है। जल्द ही तेनुआ ग्राम के लोग घटनास्थल पर पहुंच गए। उनमें परिवार के सदस्य भी थे, लेकिन घर की महिलाएं नहीं पहुंच सकीं। वे रो रो कर बेहोश भी हो जा रही थीं। सबसे ज्यादा बुरा हाल मृतक की मां का था, जो बार-बार यह कह रही थी- हम जी के का करेब, पवन के बोला द लोग। इधर गांव वालों ने बताया कि पवन के 5 भाई और एक बहन हैं। पवन  तीसरा औलाद है विद्या राय का। बहुत ही मिलनसार लड़का था। यही एक कमाऊ पुत्र था, जो परिवार का पालन-पोषण करता था।

यह भी पढ़ेंः पेंशन का इंतजार करती रही, अंत में चल बसी 120 वर्षीय वृद्धा

- Advertisement -