एनएसएस का गणतंत्र दिवस परेड चयन शिविर आयोजित

0
51
एनएसएस द्वारा गणतंत्र दिवस परेड चयन शिविर 2022 का आयोजन 6 सितम्बर को किया कोलकाता विश्वविद्यालय में किया गया।
एनएसएस द्वारा गणतंत्र दिवस परेड चयन शिविर 2022 का आयोजन 6 सितम्बर को किया कोलकाता विश्वविद्यालय में किया गया।

कोलकाता। भारत सरकार के युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय की इकाई राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के स्वयंसेवक एवं स्वयंसेविका के लिए पूर्व गणतंत्र दिवस परेड चयन शिविर 2022 का आयोजन 6 सितम्बर को किया कोलकाता विश्वविद्यालय में किया गया। आयोजित शिविर में विश्वविद्यालय, की एनएसएस इकाई से जुड़े स्वयंसेवक शिविर में शामिल हुए।

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली के राजपथ में आयोजित होने वाले गणतंत्र दिवस परेड समारोह में शामिल होना हर विद्यार्थी का सपना होता है। इसके लिए राज्य स्तर पर चयन शिविर का आयोजन किया जाता है, जिसमें देश भर के अलग-अलग प्रांतों से सर्वश्रेष्ठ स्वयंसेवक एवं स्वयंसेविका का चयन किया जाता है। राज्य स्तर पर चयनित सर्वश्रेष्ठ स्वयंसेवक पुनः 10 राज्यों के लिए आयोजित ईस्ट जोन पूर्व गणतंत्र दिवस परेड चयन शिविर में शामिल होते हैं। इसके उपरांत सर्वश्रेष्ठ स्वयंसेवकों का चयन राजपथ पर आयोजित परेड के लिए किया जाता है। पूर्व गणतंत्र दिवस परेड चयन शिविर में स्वयंसेवकों से दौड़, परेड, साक्षात्कार, सांस्कृतिक कार्यक्रम के जरिये सर्वश्रेष्ठ स्वयंसेवकों का चयन किया गया।

- Advertisement -

कोलकाता विश्वविद्यालय के एनएसएस स्वयंसेवक एवं स्वयंसेविका प्रति वर्ष गणतंत्र दिवस पर दिल्ली के राजपथ में शामिल होते रहे हैं। वर्ष 2017 में रतना पाल, वर्ष 2018 में सोहिनी मुंशी, वर्ष 2019 -वर्षा मंडल, वर्ष 2020 शर्मिला ठाकुर, मोमिता सेन, सुखेंदु दास, वर्ष 2021 में स्मारिता मजुमदार और वर्ष 2022 में अनन्या खान का चयन ईस्ट जोन पूर्व गणतंत्र दिवस परेड शिविर में हुआ था। इसमें 10 राज्यों के स्वयं सेवक उपस्थित थे।

कोलकाता में आयोजित पूर्व गणतंत्र दिवस परेड चयन शिविर में क्षेत्रीय निदेशक क्षेत्रीय निदेशालय, कोलकाता  श्री विनय कुमार, कलकत्ता विश्वविद्यालय के एनएसएस कार्यक्रम समन्वयक डॉ. देवरती दास, डिस्ट्रिक्ट नोडल ऑफिसर  कोलकाता नूपुर राय, NCC अधिकारी अनिल साहा, डॉक्टर तुलिका चक्रवर्ती, आकाश साव, अरीत्रो घोष, मेहुली राय, चन्दन राय, आलोक यादव सहित विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के कार्यक्रम अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ेंः विश्वविद्यालय शिक्षक चयन आयोग के गठन की है जरूरत

- Advertisement -