झारखंड 27 मई तक लाक्ड, स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह की अवधि बढ़ी 

0
346
झारखंड स्वास्थ्य सेवा के मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों को राज्य सरकार ने सेवा अवधि में विस्तार करने का निर्णय लिया है।
झारखंड स्वास्थ्य सेवा के मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों को राज्य सरकार ने सेवा अवधि में विस्तार करने का निर्णय लिया है।

रांची। झारखंड 27 मई तक लाक्ड हो गया है। झारखंड में स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह की अवधि को दो सप्ताह बढ़ा दी गयी है। इंटर स्टेट व इंट्रा स्टेट बसों का परिचालन प्रतिबंधित रहेगा। दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को अनिवार्य रूप से कोरोना जांच करानी पड़ेगी। 72 घंटे से अधिक की अवधि के लिए राज्य में रहने वालों को होम या इंस्टीट्यशनल क्वारंटाइन में रहना पड़ेगा। स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह 27 मई की सुबह 6 बजे तक प्रभावी रहेगा।

राज्य में स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह की अवधि को दो सप्ताह विस्तारित करने का सरकार ने निर्णय लिया है। अब यह 27 मई की सुबह 6 बजे तक प्रभावी रहेगा। मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन की अध्यक्षता में आपदा प्रबंधन प्राधिकार की आज हुई बैठक में 13 मई की सुबह 6 बजे समाप्त हो रहे स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह को बढ़ाने का फैसला हुआ। इस बैठक में 16 मई की सुबह छह बजे से पूर्व से जारी प्रतिबंधों के अतिरिक्त कुछ नए प्रतिबंध भी प्रभावी रहेंगे।

- Advertisement -

राज्य के बाहर से आने वाले सभी व्यक्तियों को 7 दिनों का होम अथवा इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन में रहना अनिवार्य होगा। यह वैसे व्यक्तियों पर लागू नहीं होगा, जो 72 घंटे के अंदर राज्य से बाहर चले जाएंगे। राज्य में बाहर से आने वालों को अनिवार्य रूप से कोरोना जांच करानी होगी।

इंटर स्टेट और इंट्रा स्टेट बसों का परिचालन प्रतिबंधित रहेगा। निजी वाहनों का मूवमेंट अनुमत कार्यों हेतु ई-पास के आधार पर होगा। लोगों की आवाजाही बाधित करने के लिए झारखंड सरकार ने यह कदम उठाया है।

इस दौरान सबसे ज्यादा शादी-ब्याह के आयोजन प्रभावित होंगे। शादी किसी होटल या बैंक्वेट में नहीं, बल्कि मात्र अपने घरों में अथवा कोर्ट में संपन्न करायी जाएगी। इसमें अधिकतम 11 व्यक्ति शामिल हो सकेंगे तथा इस अवसर पर किसी प्रकार का आय़ोजन प्रतिबंधित रहेगा।

हाट-बाजार में सोशल डिस्टेंसिंग नार्म्स का कड़ाई से अनुपालन किया जाएगा। बेवजह या नियमों की अवहेना कर लगने वाली भीड़ को नियंत्रित किया जाएगा। नियम का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

इस बैठक में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, विकास आय़ुक्त-सह-अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य विभाग अरुण कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, प्रधान सचिव अजय कुमार सिंह, सचिव विनय कुमार चौबे और सचिव अमिताभ कौशल मौजूद थे।

यह भी पढ़ेंः CM हेमंत सोरेन को चिकित्सकों की सलाह- लॉकडाउन की अवधि बढ़ाएं      (Opens in a new browser tab)

- Advertisement -