जांच के लिये पहुंचे अधिकारी को ग्रामीणों ने बनाया बंधक

0
87
बिहार
बिहार

बेतिया। मझौलिया थाना क्षेत्र की परसा पंचायत के डुमरिया में  नल जल योजना की जांच को पहुंचे बेतिया नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी सह मझौलिया प्रखंड के वरीय  प्रभारी पदाधिकारी मनोज कुमार पवन को ग्रामीणों ने घंटों बंधक बना डाला। इस क्रम में जांच पदाधिकारी के समक्ष ही विरोधी लोगों ने शिकायतकर्ता पूर्व उप मुखिया सैदुल्लाह को पीटकर घायल कर दिया। मुखिया सुनील तिवारी ने किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई।

यह भी पढ़ेंः बोलेरो-बाइक की टक्कर में युवक की मौत, 1 की हालत नाजुक

- Advertisement -

घटना की सूचना पर पहुंची  पुलिस ने पदाधिकारी को मुक्त कराते हुए उप मुखिया को भी बचाया। तब जाकर घायल  पूर्व उपमुखिया को इलाज के लिए अस्पताल भेजा जा सका। गांव के लोग इतने उत्तेजित थे कि समय पर पुलिस नहीं पहुंचती तो कोई भी खतरनाक मोड़ ले सकता था ग्रामीणों का गुस्सा। हालांकि तनाव अब भी बरकरार है, लेकिन पुलिस की चौकसी के कारण मामला आगे नहीं बढ़ पाया।

यह भी पढ़ेंः नीतीश कुमार ने बढ़ते क्राइम को ले विधि व्यवस्था की समीक्षा की

जानकारी के अनुसार पूर्व उप मुखिया सैदुल्लाह उर्फ सिपाही ने आवेदन देकर वार्ड नंबर 7 में नल जल योजना में भारी अनियमितता की शिकायत की थी। इसकी जांच के लिए आज कार्यपालक पदाधिकारी  मनोज कुमार पवन पहुंचे थे। वहां विरोधी पक्ष के ग्रामीणों ने घंटों तक उन्हें बंधक बना दिया।  जांच पदाधिकारी के समक्ष ही दूसरे पक्ष के लोगों ने आवेदनकर्ता पूर्व उपमुखिया की जमकर पिटाई कर दी और जख्मी कर दिया।

यह भी पढ़ेंः झारखंड के सभी जिलों में चलेगा स्वच्छता अभियान

इस घटनाक्रम में लोगों के आक्रोश को देख मुखिया सुनील तिवारी भाग खड़े हुए।  प्रत्यक्ष दर्शियों ने बताया कि मुखिया ने घंटों एक वार्ड सदस्य के घर में छिपकर अपनी जान बचाई। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने बंधक बने अधिकारी को मुक्त कराया।

यह भी पढ़ेंः झारखंड देश का 5वां राज्य, जहां इलेक्ट्रिक कारें पहुंचीं

- Advertisement -