किसान बिल: राज्‍यसभा से निलंबित हुए आठ विपक्षी सांसद, उपसभापति ने रोकी कार्यवाही

0
81
संसद भवन
संसद भवन

नई दिल्‍ली: नये कृषि बिल को लेकर विपक्ष लगातार हमलावर रूख अपना रहा है। इस बीच ऊपरी सदन से बड़ी खबर आ रही है। बिल को लेकर राज्यसभा में रविवार को हुए हंगामे के चलते तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ’ब्रायन सहित आठ विपक्षी सांसद निलंबित कर दिये गए हैं. संसद के मानसून सत्र का आज आठवां दिन है। सदन के कार्यवाही के दौरान एनडीए ने राज्यसभा में विपक्षी सांसदों के हंगामे का मुद्दा उठा। इस दौरान सभापति एम. वेंकैया नायडू भी खासे नाराज दिखे। उन्‍होंने कहा कि, कल ऊपरी सदन के लिए बहुत बुरा दिन था। कुछ सदस्यों ने उपसभापति पर कागज उछाले. उपसभापति के मुताबिक, उनके लिए गलत शब्द भी निकाले गए. नायडू ने कहा कि सदन में माइक को तोड़ना अस्वीकार्य और निंदनीय है.

इसके साथ ही उन्होंने हंगामा करने वाले आठ विपक्षी सांसदों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें एक हफ्ते के लिए निलंबित कर दिया है। जिन सांसदों को सस्पेंड किया गया है, उनमें डेरेक ओ’ब्रायन (तृणमूल कांग्रेस), संजय सिंह (आप)
राजीव साटव (कांग्रेस), के.के. रागेश (सीपीएम), सैयद नासिर हुसैन (कांग्रेस), रिपुन बोरा (कांग्रेस), डोला सेन (तृणमूल कांग्रेस), एलामरम करीम (सीपीएम)शामिल हैं. राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन का नाम लिया और उन्हें सदन से बाहर जाने के लिए कहा गया. जबकी, विपक्ष की ओर से उपसभापति के खिलाफ पेश प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया.

- Advertisement -

जिसके बाद हंगामा हुआ तो सदन सुबह 10 बजे तक स्‍थगित कर दिया गया। दोबारा उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह ने कार्यवाही शुरू कराई तो सस्‍पेंड हुए सांसद फिर नारेबाजी करते हुए वेल तक पहुंच गए। सिंह ने उनसे सदन से बाहर जाने को कहा मगर वे नहीं माने। उपसभापति ने हंगामा बढ़ता देख सदन को फिर आधे घंटे के लिए स्‍थगित कर दिया।
विदित हो कि, रविवार को विपक्ष के कई सांसदों ने सदन में जमकर हंगामा किया था. संजय सिंह और राजीव साटव महासचिव के सामने टेबल पर चढ़ गए थे. वहीं तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ ब्रायन ने आसन के सामने रूल बुक लहराई थी. कुछ सांसदों ने आसन पर लगा माइक तोड़ दिया था. कई अन्य सांसदों ने किसान बिल की कॉपी फाड़ कर बिखेर दी थी. हंगामा इतना बढ़ गया कि मार्शल को हस्‍तक्षेप करना पड़ा। बाद में सदन की कार्यवाही को स्‍थगित करना पड़ गया।

- Advertisement -