झारखंड में रिटायर होने वाले डाक्टरों को 6 माह का सेवा विस्तार

0
246
झारखंड स्वास्थ्य सेवा के मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों को राज्य सरकार ने सेवा अवधि में विस्तार करने का निर्णय लिया है।
झारखंड स्वास्थ्य सेवा के मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों को राज्य सरकार ने सेवा अवधि में विस्तार करने का निर्णय लिया है।

रांची। झारखंड स्वास्थ्य सेवा के मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों को राज्य सरकार ने सेवा अवधि में विस्तार करने का निर्णय लिया है। मार्च 2022 अथवा सेवानिवृति की तिथि से छह माह की अवधि, जो भी बाद में हो, सेवा विस्तार किया जाएगा। मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने झारखंड स्वास्थ्य सेवा के शैक्षणिक और गैर  शैक्षणिक संवर्ग के सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों को अवधि सेवा विस्तार देने के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है। इस पर अब मंत्रिपरिषद की स्वीकृति ली जाएगी।

सरकार ने यह निर्णय कोरोना महामारी से प्रभावी तरीके से निपटने की दिशा में उटाये गये कदम के तहत लिया है। चिकित्सकों की सेवा अवधि में विस्तार से राज्य में डाक्टरों की कमी पर भी काबू पाया जा सकेगा।

- Advertisement -

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने झारखंड स्वास्थ्य सेवा संवर्ग के वैसे चिकित्सक, जो मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले हैं, उनका अवधि सेवा विस्तार मार्च 2022 अथवा सेवानिवृति की तिथि से छह माह की अवधि, जो भी बाद में हो, तक करने संबंधी स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है। इसे अब स्वीकृति के लिए मंत्रिपरिषद की बैठक में रखा जाएगा।

मुख्यमंत्री द्वारा स्वीकृत इस प्रस्ताव के अंतर्गत झारखंड स्वास्थ्य सेवा के शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक संवर्ग में मई 2021 से सितंबर 2021 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों की एक बार के लिए आगामी मार्च 2022 तथा अक्टूबर 2021 से मार्च 2022 तक सेवानिवृत होने वाले चिकित्सकों की सेवानिवृति, सेवानिवृत की तिथि से छह माह की अवधि तक के लिए विस्तारित की जाएगी।

कोरोना से निपटने के लिए उठाया गया कदम 

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि कोविड-19 (कोरोना) महामारी से उत्पन्न परिस्थितियों से निपटने एवं समुचित चिकित्सा व्यवस्था राज्य के निवासियों को उपलब्ध कराना  सरकार की प्राथमिकता है। राज्य में चिकित्सकों की कमी है। गैर शैक्षणिक संवर्ग में स्वीकृत बल 2316 की तुलना में 1597 और शैक्षणिक संवर्ग में स्वीकृत बल 591 के विरुद्ध 285 चिकित्सक कार्यरत हैं। अगले एक वर्ष में गैर शैक्षणिक संवर्ग के 44 और शैक्षणिक संवर्ग के 15 चिकित्सक सेवानिवृत हो जाएंगे। ऐसे में कोरोना से प्रभावी ढंग से निपटने हेतु राज्य सरकार ने पदस्थापित वैसे चिकित्सक, जो मई 2021 से मार्च 2022 के बीच सेवानिवृत हो रहे हैं, की सेवा लोक और राज्य हित में विस्तारित करने का निर्णय लिया गया है।

यह भी पढ़ेंः कैंपस में क्या गैर राजनीतिक छात्र संघ संभव है? (Opens in a new browser tab)

- Advertisement -