दिव्यांग, वृद्ध और विधवा को हर माह 1000 रुपये पेंशन

0
66

झारखंड के सीएम रघुवर दास ने की घोषणा, अमल अगले साल से

नाला/जामताड़ा। राज्य की सवा तीन करोड़ जनता अभाव की ज़िंदगी न जिये, इसके लिए सरकार हर स्तर पर प्रयास कर रही है। अगले बजट 2019-20 में राज्य सरकार दिव्यांग, वृद्ध और विधवा को हर माह 1000 रुपये पेंशन देने का प्रावधान करेगी। मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने ग्राम- नुतनडीह, पंचायत- नाला, जिला- जामताड़ा में आयोजित जन चौपाल में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए यह घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार वृद्ध, विधवा और दिव्यांग को प्राथमिकता दे रही है। इसके लिए 2019-20 के बजट प्रावधान किया जाएगा। उन्हें 2019-20 के बजट में पेंशन राशि मौजूदा 600 से बढ़ाकर 1000 रुपये प्रति माह सरकार देगी। जामताड़ा में भी सर्वे करा कर विधवाओं, दिव्यांगों और वृद्धों की पहचान की जाएगी। दिव्यांगो और वृद्धों पेंशन की राशि और पेंशन पाने वालों की संख्या में इजाफ़ा किया जाएगा। सभी को पारदर्शिता से पेंशन दिया जाएगा। आप सुखी रहें यही सरकार की सोच है ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 में राज्य की कृषि विभाग दर -4.5 थी। आज 4 साल बाद राज्य की कृषि विकास दर +14% हो गई। यह हम नहीं नीति आयोग कहता है। राज्य के किसानों ने झारखण्ड को कृषि के क्षेत्र में एक नयी पहचान दी। राज्य सरकार ने किसानों की क्षमता को देखकर 52 किसानों को इजरायल भेजा, ताकि उनकी क्षमता और वैज्ञानिक पद्धति की बदौलत राज्य की कृषि विकास दर लगातार बढ़े। आने वाले दिनों में राज्य सरकार 50 महिला और 50 पुरुष किसानों को इजरायल व फिलीपींस भेजेगी। छोटे किसानों की जरूरतों को ध्यान में रखकर बजट में प्रावधान किया जाएगा और ऐसे किसानों को रियायती दर पर कृषि उपकरण उपलब्ध कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि मत्स्य उत्पादन में हम अग्रणी हो चुके हैं। युवा डेयरी फार्म के क्षेत्र में आगे आएं। युवा रोजगार सृजन करने का कार्य करें। सरकार सब्सिडी पर गाय उपलब्द्ध कराएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलों में पोल्ट्री फेडरेशन सोसायटी बनाया जाएगा। इसके लिए फेडरेशन को 4 लाख रुपये की राशि दी जाएगी।

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि झारखण्ड की सवा तीन करोड़ जनता की शक्ति और सरकार की नीति और विकास की नीयत के बदौलत झारखण्ड से गरीबी को निकालना है। इस गरीबी को निकालने के लिए कई योजनाएं संचालित की जा रहीं हैं। योजनाओं के बीच में भ्रष्टाचार और बिचौलिया संथाल परगना समेत झारखण्ड में मौजूद हैं। इस बिचौलिये रूपी कैंसर को हमें जड़ से खत्म करना है।

यह भी पढ़ेंः बिहार में ग्रेजुएट लड़कियों को अगले महीने मिलेंगे डेढ़ लाख रुपये

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकतंत्र की खूबसूरती देखिए कि एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और एक मजदूर परिवार का मजदूर आज राज्य का मुख्यमंत्री बना है। हमने गरीबी नजदीक से देखी है। मैं आपके दर्द को समझता हूं। आपके चेहरे पर मुस्कान लाने एवं समाज में खड़े अंतिम व्यक्ति तक विकास की खुशबू पहुंचाने के लिए आपका यह सेवक निरन्तर कार्य कर रहा है। हमारी सरकार किसान, गरीब, युवा, महिला के प्रति समर्पित सरकार है।

यह भी पढ़ेंः झारखंड अब विकास के लिए जाना जाता है, भ्रष्टाचार के लिए नहीं

मुख्यमंत्री ने कहा कि अलग राज्य बनने के बाद से 14 साल तक अस्थिर सरकार की वजह से लोगों का सपना अधूरा रह गया। अस्थिर सरकार के कारण लोगों की आकांक्षा और आशा कभी पूर्ण नही हुई। लेकिन 2014 में आपने एक मजबूत सरकार देकर झारखण्ड को धन्य किया। विगत 4 साल में झारखण्ड विकास के पथ पर अग्रसर है। आज देश में झारखण्ड की पहचान तेजी से आगे बढ़ते हुए राज्य के रूप में हो रही है। विगत 14 साल में लोगों तक मूलभूत सुविधा पहुंच जानी चाहिए थी। 4 साल में हमने राज्य की जनता को क्या दिया, यह बताने आपके बीच हूं।

यह भी पढ़ेंः रघुवर का दावा- झारखंड से गरीबी, बेरोजगारी और अभाव मिटा कर रहेंगे

- Advertisement -