समस्तीपुर में डेयरी संयंत्र व बिहिया में  पशु आहार कारखाना लगेंगे

0
131

सुशील मोदी ने किया मठबनवारी में मदर डेयरी के दूध प्रसंस्करण संयंत्र का उद्घाटन

पटना। पूर्वी चम्पारण के मठबनवारी में 11 महीने के रिकार्ड समय में में बन कर तैयार मदर डेयरी के प्रतिदिन 1 लाख लीटर क्षमता के दूध प्रसंस्करण संयंत्र के उद्घाटन के बाद उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि इस संयंत्र द्वारा मार्च से 1250 गांवों के 50 हजार किसानों से प्रतिदिन 2 लाख लीटर दूध का संग्रह किया जा सकेगा। अब सुधा व मदर डेयरी दोनों मिल कर किसानों से दूघ खरीदेंगी। अगले वित्तीय वर्ष 2019-20 में कम्फेड द्वारा समस्तीपुर में 5 लाख लीटर प्रतिदिन क्षमता के डेयरी संयंत्र और भोजपुर के बिहिया में 300 मे.टन प्रतिदिन उत्पादन क्षमता के पशु  आहार कारखाना लगाये जायेंगे।

चालू वित्तीय वर्ष में सुपौल में 1 लाख लीटर क्षमता का डेयरी संयंत्र, समस्तीपुर व हाजीपुर में 30-30 मे.टन के दूध पाउडर संयंत्र, पटना व नालंदा में 20-20 हजार किलो दैनिक क्षमता के आइसक्रीम प्लांट स्थापित किए जाने के साथ ही पटना में पूर्व से स्थापित 100 मे. टन क्षमता के पशु  आहार फैक्ट्री को 150 मे.टन में विस्तारित और 150 मे. टन की नई इकाई स्थापित की गयी है। सुधा फ्लेवर्ड मिल्क व सेव का जूस बाजार में लाने के साथ ही गुवाहाटी में सुधा के पैकेटबंद तरल दूध एवं अन्य उत्पादों का विपणन प्रारंभ किया गया है।

- Advertisement -

इस साल एफएमडी के तहत 3.30 करोड़ तथा एचएसबी के अन्तर्गत 1.64 करोड़ पशुओं का टीकाकरण किया गया है। 50 एम्बुलेटरी वाहनों से 2.87 लाख पशुओं को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराये गए हैं। डेयरी स्थापित करने वाले किसानों को सरकार 50 फीसदी तथा एससी और एसटी को 66 प्रतिशत अनुदान दिया जा रहा है।

किसानों की आमदनी केवल धान,गेहूं की खेती करने से दोगुनी नहीं होगी, बल्कि इसके लिए समग्र रूप से वानिकी, डेयरी, मछली और मुर्गी पालन को अपनाना होगा। फिलहाल बिहार में प्रतिदिन 18 लाख किलो दूध का संग्रह व 14 लाख लीटर की मार्केटिंग सुधा डेयरी द्वारा की जा रही है।

यह भी पढ़ेंः

भाजपा में मची भगदड़, पहले शत्रुघ्न व कीर्ति बागी बने, अब उदय सिंह

लोकसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबले की बन रही संभावना

रोड शो के बाद अनंत सिंह को आस, हर हाल में मिलेगा हाथ का साथ

पुण्यतिथिः आधुनिक युग के  विद्रोही संन्यासी का नाम है ओशो

तेज प्रताप का बदला ठिकाना, अपनों को छोड़, अलग घर बसाया

राहुल की रैली के बाद ही महागठबंधन में सीटों का बंटवारा संभव

सवर्ण आरक्षण के मुद्दे ने आरजेडी में पैदा कर दी है खटास

पुष्य नक्षत्र व सर्वार्थ सिद्धि योग में 21 जनवरी को मनेगी पौष पूर्णिमा

बिहार का छोरा ले आया बुल्गारिया की बहू, रचाई शादी

दारोगा के कहने पर घूस ले रहा सिपाही नवादा में गिरफ्तार

सुशील मोदी के ट्वीट

  • गरीब सवर्णों को रिजर्वेशन देने का विरोध करने वाला राजद, लालू प्रसाद के सीरियल घोटालों तथा बेनामी सम्पत्तियों पर चुप्पी साधने वाले शरद यादव, सोनिया गांधी के विदेशी मूल का मुद्दा भुलाकर कांग्रेस से हाथ मिलाने शरद पवार, कश्मीरी अलगाववादियों-पत्थरबाजों के हमदर्द फारुख अब्दुल्ला ने कोलकाता रैली में राजग सरकार की आलोचना कर यही साबित किया कि इन्हें भ्रष्टाचार और आतंकवाद पर जीरो टालरेंस की नीति नहीं, केवल सत्ता पर कब्जा चाहिए। क्या राजग सरकार का विरोध इसलिए किया जा रहा है कि पांच साल में कोई बड़ी आतंकी वारदात नहीं हुई?
  • कालेधन का बचाव करने के लिए नोटबंदी का विरोध करने वाली मायावती-ममता बनर्जी, यूपी में गुंडाराज चलाने के कारण सत्ता से बाहर किये गए अखिलेश यादव, यूपीए के दस साल के घोटालों को भूल कर राहुल गांधी के नवोदित फैन बने शत्रुघ्न सिन्हा और 26 साल की उम्र में 26 बेनामी सम्पत्ति बनाने वाले परम सत्यवादी तेजस्वी यादव से लेकर समृद्ध गुजरात को बार-बार रिजर्वेशन आंदोलन की आग में झोकने वाले हार्दिक पटेल तक, वे सारे लोग केवल इसलिए कोलकाता रैली में जुटे थे कि वे उस मजबूत प्रधानमंत्री को हटाना चाहते हैं, जिसने गरीबों के राशन, पेंशन, मुफ्त गैस कनेक्शन और किसानों की आमदनी दोगुनी करने की चिंता की।
  • कांग्रेस के समय केंद्र सरकार गरीबों को जो एक रुपया भेजती थी, उसमें से सिर्फ 15 पैसे लाभार्थी तक पहुंचते थे, लेकिन राजग सरकार ने कल्याणकारी योजनाओं में सेंध लगाने वाले दलालों पर शिकंजा कसा। गरीब के खाते में पूरा एक रुपया जाने लगा। विदेशी चंदे से चलने वाले शहरी नक्सलियों और कश्मीर की आजादी के नारे लगाने वालों की दुकान बंद हो गई। देश को भ्रष्टाचार मुक्त शासन मिला और विदेशों में भारत का मान बढ़ा।
- Advertisement -