गरीबों का सपना पूरा कर रही है प्रधानमंत्री आवास योजना

0
108
बंगाल का वोटर सूपड़ा साफ़ करने से पहले प्रचंड समर्थन देता है। 2006 में ममता बनर्जी को 30 सीटें मिली थीं। लेफ्ट फ्रंट को भारी बहुमत से जीत मिल गयी थी।
बंगाल का वोटर सूपड़ा साफ़ करने से पहले प्रचंड समर्थन देता है। 2006 में ममता बनर्जी को 30 सीटें मिली थीं। लेफ्ट फ्रंट को भारी बहुमत से जीत मिल गयी थी।

भाजपा प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा- 65 लाख और घरों को मंजूरी

पटना। 2022 तक देश के सभी बेघर परिवारों को अपने घर की सुविधा देने के प्रधानमन्त्री मोदी के संकल्प के प्रति केंद्र को कटिबद्ध बताते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक श्री राजीव रंजन ने कहा कि देश के गरीबों के हित में हमेशा सोचने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने सत्ता में आते ही साल 2022 तक देश के हर बेघर परिवार को अपने घर की सुविधा देने का वादा किया था। इसे सुनिश्चित करने के लक्ष्य को लेकर 25 जून, 2015 को प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू की गई थी। इस योजना के तहत अभी तक 1.25 करोड़ से अधिक घरों का निर्माण हो चुका है।

उन्होंने कहा कि इसके दायरे को और बढ़ाते हुए केन्द्र सरकार ने पीएमएवाई (शहरी) के तहत 2.05 लाख और सस्ते मकानों के निर्माण को मंजूरी दी है, जिसमें बिहार के भी 26,880 घर शामिल हैं। इसके साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत नए मंजूर मकानों की संख्‍या 65 लाख से अधिक हो गई है। खास बात यह है कि इस योजना के तहत बन रहे सभी मकान शौचालय, एलपीजी, बिजली तथा पेयजल जैसी सुविधाओं से युक्त हैं तथा साथ ही इनके आकार को भी पहले के मुकाबले बढ़ा दिया गया है। जाहिर है इससे लोगों को काफी फायदा होगा।

- Advertisement -

श्री रंजन ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना न केवल लोगों को आवास सुविधा का लाभ दे रही है, बल्कि करोड़ों लोगों को रोजगार भी प्रदान कर रही है। इस योजना ने अब तक 1.2 करोड़ लोगों को रोजगार प्रदान किया है।

एक रिपोर्ट के अनुसार इस क्षेत्र में निवेश किये गए हर 1 लाख रुपये पर 2 से तीन लोगों को  रोजगार मिल रहा है। लगातार प्रयासों से यह आंकड़ा 4-5  तक पंहुचा सकता है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अब तक 1,10,753 करोड़ रुपये का निवेश किया जा चुका है। अनुमान है कि इस पूरी योजना के तहत लगभग 4.5 करोड़ लोगों को रोजगार मिल सकता है।

यह भी पढ़ेंः गरीबों में तेजी से लोकप्रिय हो रही है आयुष्मान भारत योजना

- Advertisement -