BJP से सीटों के बारगेन की तैयारी में है पासवान की लोजपा

0
55

समस्तीपुर। राम विलास पासवान की पार्टी लोजपा ने अपने तेवर दिखाने शुरू कर दिये हैं। एससी-एसटी ऐक्ट के बहाने लोजपा एनडीए के बड़े घटक दल भाजपा से सीटों के बंटवारे के मुद्दे पर इसी बहाने बारगेन के मूड में है।

एससी-एसटी ऐक्ट के बहाने वह दो निशाने एक साथ साधना चाहती है। पहला यह कि उसे उसकी ताकत के आधार पर लोकसभा में अधिक सीटें मिल जायें या पिछली बार से कम तो कत्तई नहीं। लोक जनशक्ति पार्टी से संबद्ध दलित सेना को लोजपा ने अपना टूल बनाया है। लोजपा का एक मकसद इसी बहाने एसटी-एससी वोटरों को गोलबंद करना भी है।

- Advertisement -

लोजपा से जुड़ी दलित सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष और लोजपा सांसद रामचन्द्र पासवान ने केंद्र सरकार से एससी-एसटी एक्ट अध्यादेश लाने की मांग की है। श्री पासवान मस्तीपुर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान अपनी मांग दोहरायी।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार यदि 9 अगस्त से पूर्व एसटी/ एसटी ऐक्ट अध्यादेश संसद में नहीं लाती है तो उनकी पार्टी देशव्यापी आंदोलन करेगी। उन्होंने कहा कि दलितों के आरक्षण का अधिकार कोई नहीं छीन सकता है और आरक्षण पर कुठाराघात उनकी पार्टी कभी बर्दाश्त नहीं करेगी।

उन्होंने कहा कि दलितों के आरक्षण के मुद्दे को लेकर आज देश में राजनीति चरम पर है। श्री पासवान ने कहा कि दलित सेना इन वर्गो के राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक विकास के प्रति कृतसंकल्पित है।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार आगामी 9 अगस्त के पूर्व एससी-एसटी अत्याचार निरोधक कानून को लेकर अध्यादेश जारी नहीं करेगी तो 9 अगस्त को होने वाले राष्ट्रीय आंदोलन में दलित सेना मुख्य भूमिका निभाएगी। लोजपा सांसद ने केंद्र सरकार से एनजीटी के अध्यक्ष आदर्श कुमार गोयल को भी पद से बर्खास्त करने की मांग की है।

इस अवसर पर लोजपा महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष नीलम सिन्हा, प्रदेश महासचिव मधुबाला सिन्हा, प्रदेश सचिव रीता पासवान, लोजपा जिला अध्यक्ष जितेन्द्र कुमार कुशवाहा, लोजपा जिला प्रवक्ता उमाशंकर मिश्रा, नीरज भारद्वाज, मनोज ठाकुर, युवा लोजपा अध्यक्ष शिवानंद बमबम, दलित सेना के जिलाध्यक्ष राजकिशोर हजारी और लोजपा अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष मो.दिलशाद समेत अन्य नेता उपस्थित थे।

यह भी पढ़ेंः

हमें साथियों को संभालने और सम्मान देने का सलीका आता हैः शाह

हालात नहीं सुधरे तो बिहार में कांग्रेस के लिए मुश्किलः गहलोत

 

- Advertisement -