सरकार की नीतियों से वितीय प्रबंधन में नंबर एक बना बिहार

0
15
बीजेपी ने आरजेडी से पूछा है कि उसके नेता तेजस्वी यादव इन दिनों कहां हैं। वे देश में हैं या विदेश, आरजेडी को पहले यह बताना चाहिए।
बीजेपी ने आरजेडी से पूछा है कि उसके नेता तेजस्वी यादव इन दिनों कहां हैं। वे देश में हैं या विदेश, आरजेडी को पहले यह बताना चाहिए।

नरेंद्र मोदी व नीतीश के नेतृत्व में तरक्की के नये आयाम रच रहा राज्यः राजीव 

पटना। सरकार की नीतियों से वितीय प्रबंधन में नंबर एक बना बिहार। नरेंद्र मोदी व नीतीश कुमार के नेतृत्व में तरक्की के नये आयाम रच रहा है राज्य। भाजपा के बिहार प्रदेश प्रवक्ता और पूर्व विधायक राजीव रंजन ने सीआईआई द्वारा हालिया पेश की गयी रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि नमो-नीतीश के नेतृत्व में लगातार आगे बढ़ रहा बिहार तरक्की के नए आयाम छू रहा है।

यह भी पढ़ेंः CII ने माना, बिहार का वित्तीय प्रबंधन देश में सबसे बेहतर

- Advertisement -

अब बिहार के विकास पर देश के प्रमुख उद्योग संगठन सीआईआई ने अपनी मुहर लगा दी है। संस्थान द्वारा जारी हालिया एक रिपोर्ट के अनुसार वित्तीय प्रबंधन की कुशलता के कारण राजकोषीय प्रदर्शन सूचकांक (फिस्कल परफारेमेंस इंडेंक्स) में बिहार प्रथम स्थान पर है। 100 अंकों वाले इस सूचकांक में बिहार का स्कोर सर्वाधिक 66.5 है, जबकि पश्चिम बंगाल का सबसे कम 23.3 है।

यह भी पढ़ेंः सारण के बनियापुर में नशेड़ी भाई ने पीट-पीट कर भाई की ले ली जान

गौरतलब हो कि इस सूचकांक में बिहार ने गुजरात, महाराष्ट्र और हरियाणा जैसे संपन्न राज्यों को भी मीलों पीछे छोड़ दिया है। यह सूचकांक दर्शाता है कि कभी वित्तीय कुप्रबंधन और घपलों-घोटालों के लिए विख्यात बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए सरकार बनने के बाद इतना व्यापक बदलाव आया है। यह नमो-नीतीश की जोड़ी की अथक मेहनत का ही परिणाम है कि कभी नेगेटिव विकास दर रखने वाला बिहार आज देश में सबसे अधिक 11.3 प्रतिशत की विकास दर रखने वाला राज्य बन चुका है। विशेषज्ञ भी अब मानते हैं कि अगर बिहार का विकास ऐसे ही चलता रहा तो बिहार को विकसित श्रेणी में पंहुचने से कोई नही रोक सकता।

यह भी पढ़ेंः केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का जगह-जगह भव्य स्वागत

श्री रंजन ने आगे कहा कि देश में बढ़ रहा बिहार का मान अनायास नहीं है, बल्कि यह 2005 से ही बिहार सरकार द्वारा किए जा रहे लगातार प्रयासों का प्रतिफल है। 2014 के बाद केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद तो बिहार के विकास में और तेजी आ गयी है। याद करें तो कांग्रेस ने 13वें वित्त आयोग के तहत बिहार को केवल 1 लाख 93 हजार करोड़ रुपये दिए गए, जबकि 14वें वित्त आयोग में मोदी सरकार द्वारा राज्य को 4 लाख 33 हजार 803 करोड़ रुपये अर्थात ढाई गुना ज्यादा आवंटित किये गए हैं, जिससे बिहार के चतुर्दिक विकास को मजबूती मिली है। केंद्र के निरंतर सहयोग और बिहार सरकार के कुशल प्रबन्धन ने बिहार के विकास में नए पंख लगा दिए हैं। केंद्र और राज्य के डबल से इंजन से आज बिहार के लगभग सभी घरों में बिजली, रसोई गैस, पेयजल और शौचालय जैसी मुलभुत सुविधाएं आ चुकी हैं। आने वाले समय में बिहार निश्चित ही अपने खोए गौरव को फिर से हासिल करने वाला है।

यह भी पढ़ेंः डीजीपी साहब, क्या अपराध नियंत्रण का मतलब दहशत फैलाना है

यह भी पढ़ेंः लोकसभा चुनाव के बाद राजनीतिक परिवर्तन का दौर

यह भी पढ़ेंः देशभक्ति की नहीं, सिर्फ सलमान खान की कहानी है भारत

- Advertisement -