बिहार सरकार ने AES व लू से पीड़ितों के लिए कई कदम उठाये हैं

0
22
केंद्र के राहत पैकेज से मखाना उत्पादक बिहार को मिलेगा विशेष लाभ। मधुमक्खी पालक भी होंगे प्रोत्साहित। शहद उत्पादन में बिहार देश में दूसरे स्थान पर है। यह कहना है उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का
केंद्र के राहत पैकेज से मखाना उत्पादक बिहार को मिलेगा विशेष लाभ। मधुमक्खी पालक भी होंगे प्रोत्साहित। शहद उत्पादन में बिहार देश में दूसरे स्थान पर है। यह कहना है उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का

पटना। बिहार सरकार ने AES व लू से पीड़ितों के लिए कई कदम उठाये हैं। इसका लाभ भी पीड़ितों-प्रभावित लोगों को मिलने लगा है। बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि अत्यधिक गर्मी, लू और चमकी बुखार से बड़ी संख्या में बच्चों-बुजुर्गों की मृत्यु हर संवेदनशील व्यक्ति को विचलित करने वाली है।  सरकार ने पीड़तों की मदद और बचाव के लिए तेजी से कदम भी उठाये। एईएस का इलाज मुफ्त किया गया, रोगी को अस्पताल लाने का खर्च देने का निर्णय हुआ, मृतक के परिवार को 4 लाख रुपये देने की शुरूआत की गई और दर्जन भर लोगों तक यह राशि पहुंचा भी दी गई।

यह भी पढ़ेंः दफन होने के पहले जिंदा हुआ नवजात, चल रहा है इलाज 

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि एहतियात के तौर पर दिन के 10 बजे से शाम के पांच बजे तक सरकारी-गैरसरकारी निर्माण पर रोक लगा दी गयी है। स्कूल-कालेज 24 जून तक बंद कर दिये गए हैं। भविष्य की चुनौती को देखते हुए मुजफ्फरपुर के SKMCH में 100 बेड का ICU बनाने का फैसला किया गया। सरकार हर संभव उपाय कर रही है, लेकिन जिन्होंने ने 15 साल के अपने शासन में सरकारी अस्पतालों और मेडिकल कालेजों को आवारा पशुओं का तबेला बना दिया था, वे बच्चों की चिता पर राजनीति की रोटियां सेंकने निकल पड़े हैं।

उन्होंने राजद को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि राजद के लोगों को हाल के लोकसभा चुनाव के दौरान अमर्यादित टिप्पणी और तथ्यहीन आरोप लगाने के कारण जनता ने जीरो पर आउट किया, लेकिन मात्र  22 दिन बाद मौका मिलते ही उनकी पुरानी बोली फूटने लगी। राबड़ी देवी को बताना चाहिए कि उनके शासन में मेडिकल कालेजों की क्या दशा थी? एक पूर्व मुख्यमंत्री से लोग जानना चाहेंगे कि हाल में चमकी बुखार से 1000 बच्चों की मौत के आंकड़े का आधार क्या है? क्या मौत के मनगढ़ंत आंकड़े पेश करना किसी जिम्मेदार व्यक्ति का काम हो सकता है?

यह भी पढ़ेंः मुजफ्फरपुर में कल तक 133 बच्चों की मौत हो चुकी हैः शिवानंद

यह भी पढ़ेंः इस साल दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा भारत

राज्यस्तरीय बैंकर्स समिति की बैठकः वित्तीय वर्ष 2019-20 में राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की पहली बैठक 19 जून, 2019 को पूर्वाह्न 11 बजे से होटल चाणक्या में आयोजित है, जिसमें विगत वर्ष 2018-19 के दौरान बैंकिंग गतिविधियों की समीक्षा के साथ चालू वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए निर्धारित 1 लाख 45 हजार करोड़ की वार्षिक साख योजना की भी विस्तृत समीक्षा की जायेगी। उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी बैठक में हिस्सा लेंगे। अपराह्न 2 बजे बैठक स्थल पर ही उपमुख्यमंत्री बैठक में लिए गए निर्णयों की जानकारी मीडियाकर्मियों को देंगे।

यह भी पढ़ेंः पेड़ काट कर विनाश के खतरे को दावत दे दी है हमने

यह भी पढ़ेंः नामवर सिंह पर केंद्रित मुक्तांचल के नए अंक का लोकार्पण

यह भी पढ़ेंः सीमा पर शहीद हो गया सीवान का एक सपूत अमरजीत

- Advertisement -