झारखंड के 69 को दुबई में नौकरी मिलने पर सीएम की शुभकामनाएं

0
59

रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखंड अमीर राज्य है, परंतु राज्य की कोख में गरीबी पल रही है। राज्य से गरीबी का समूल नष्ट करना राज्य सरकार की प्राथमिकता रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में पिछले 4 वर्षों में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पूरे देश में कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम मिशन मोड में चलाया गया है। राज्य सरकार ने केंद्र सरकार के साथ आपसी समन्वय स्थापित कर पूरे राज्य में कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम को प्रतिबद्धता के साथ लागू किया है। उक्त बातें मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री आवास में आयोजित प्रेमा फाउंडेशन के इंटरनेशनल कल्याण गुरुकुल में प्रशिक्षित 69 युवाओं को दुबई में नियोजन के लिए नियुक्ति पत्र का वितरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहीं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड की युवा शक्ति प्रतिभा की धनी है। राज्य में युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षित कर रोजगार से जोड़ने का प्रतिबद्ध प्रयास सरकार ने किया है। पिछले 4 वर्षों में यहां के युवा वर्ग को निजी क्षेत्र में बड़ी संख्या में रोजगार उपलब्ध कराया गया है। झारखंड की श्रम शक्ति अन्य राज्यों की श्रम शक्ति से बेहतर और अनुशासित है। झारखंड के लोग सरल सीधे और अनुशासित माने जाते हैं।

- Advertisement -

मुख्यमंत्री ने दुबई की निजी कंपनी DULSCO द्वारा नियुक्ति पत्र मिले युवाओं से कहा कि आप अपनी कार्य क्षमता के बदौलत ऐसी पहचान बनाएं कि पूरी दुनिया यह कहे कि झारखंड की युवा शक्ति वाकई बेहतर और अनुशासित है। झारखंड की पहचान झारखंड के युवा ही हैं। नए राज्य के निर्माण में युवा धन का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। उन्होंने कहा कि राज्य के विभिन्न जिलों से गुरुकुल में प्रशिक्षण लेने आए युवाओं का दुबई में नियोजन हो रहा है। आप सभी नवनियुक्त युवा शक्ति को जिंदगी की नई शुरुआत के लिए शुभकामनाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के सभी जिलों में गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण के लिए गुरुकुल जैसी अंतरराष्ट्रीय संस्था स्थापित की गई है। ग्रामीण सुदूर क्षेत्रों के युवा वर्ग के लोगों को प्रशिक्षण के माध्यम से स्किल कर रोजगार से जोड़ने का कार्य हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वैश्विक युग में स्किल्ड मैनपावर की मांग बढ़ी है। इस मांग को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम को पूरे झारखंड में मिशन मोड में चलाया है। सरकार का यह लक्ष्य है कि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले वैसे युवा, जो कम पढ़े-लिखे हैं, उन्हें भी हुनरमंद और दक्ष बनाना है। गरीबी के कारण जो बच्चे अधिक पढ़ाई नहीं कर पाते हैं, सरकार उन्हें स्किल करने पर ज्यादा फोकस कर रही है। प्रशिक्षण लेंगे, तभी रोजगार का सृजन हो पाएगा। कम पढ़े-लिखे बच्चों में भी काफी क्षमता होती है। सिर्फ उन्हें प्रशिक्षित करने की जरूरत है।

यह भी पढ़ेंः

मुख्यमंत्री ने दुबई जाने वाले नवनियुक्त युवकों से कहा कि दुबई में बड़ी संख्या में भारतीय लोग रहते हैं। हाल के दिनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुबई के अबूधाबी में एक मंदिर का भी शिलान्यास किया है। दुबई जाकर आप मन लगाकर कार्य करें और अपने परिवार का सहयोग करें। थोड़ी-बहुत परेशानियां आ सकती हैं, परंतु आप सभी दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ कार्य क्षेत्र में डटे रहें। संघर्ष से घबरा कर हार नहीं मानें।

- Advertisement -