चार वर्षों में आमजन तक पंहुचा बैंकिंग का लाभ : राजीव रंजन

0
73

पटना। केंद्र में भाजपा शासन के चार वर्षों में देश की आम जनता को बैंकिंग और सुरक्षा योजनाओं के दायरे में लाने के लिए केंद्र द्वारा किए जा रहे कार्यों का ब्यौरा देते हुए प्रदेश भाजपा प्रवक्ता सह पूर्व विधायक श्री राजीव रंजन ने कहा, “ विगत 48 महीनों में वर्तमान सरकार ने आम जनों तक बैंकिंग सुविधाओं को पंहुचाने तथा उन्हें बीमा योजनाओ के अंतर्गत सुरक्षा प्रदान करने के लिए अनेक कार्य किए हैं।  अपनी योजनाओं के माध्यम से केंद्र ने तीन बातों पर जोर दिया है – दलित, पीड़ित, शोषित, वंचित, आदिवासी, महिला; इन सबको सशक्‍त बनाने के लिए बैंकिंग सुविधा से वंचित लोगों तक बैंक की सुविधा पहुंचाना, लघु उद्योग और छोटे व्‍यापारियों को वित्‍तीय सहायता उपलब्ध कराना और वित्‍तीय रूप से असुरक्षित लोगों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करना। आज जन सुरक्षा योजनाएं आमजन को और खासतौर पर आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों को सुरक्षा के साथ सशक्‍त बना रही हैं, जिससे संकट के समय वह मजबूती के साथ खड़े रह सकें। आज विभिन्न सुरक्षा योजनाओं से 20 करोड़ से अधिक लोग जुड़ कर अपना जीवन सुरक्षित कर चुके हैं। इसके अलावा याद करें कि जब 2014 भाजपा सत्ता में आयी, तब आर्थिक सहायता तो दूर की बात, गरीब के पास अपना बैंक खाता भी नहीं था, लेकिन केंद्र की कृतसंकल्पिता से स्थितियों में बदलाव आया। आज देश के करोड़ों लोग जो कभी बैंक में कदम रखने से डरते थे, बैंकों से जुड़ चुके हैं. विश्‍व बैंक की एक रिपोर्ट में कहा गया कि प्रधानमंत्री जन-धन योजना एक सफल वितीय समावेशन कार्यक्रम रहा, जिसमें तीन साल में, यानी 2014 से 2017 की अवधि में 28 करोड़ नए बैंक खाते खोले गए। यह संख्‍या इस अवधि के दौरान पूरे विश्‍व में खोले गए सभी नए बैंक अकाउंट का 55 प्रतिशत है – आधे से ज्‍यादा। आज इस योजना के तहत 31.8 करोड़ खाते खुल चुके हैं। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारत में बैंक खाते रखने वाले लोगों की संख्‍या 2014 से पहले करीब 50-52 प्रतिशत थी, वह इन तीन सालों में 80 प्रतिशत को पार कर चुकी है और विशेष रूप से महिलाओं के बैंक खातों में बढ़ोत्‍तरी हुई है।”

केंद्र की बीमा योजनाओं के बारे में बताते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा, “ सालों से बात होती आई है कि अलग-अलग देशों में सामाजिक सुरक्षा की व्‍यवस्‍था है, लेकिन भारत में नहीं है। वर्तमान सरकार ने सत्ता में आते ही इस समस्या को समझा और विभिन्न बीमा योजनाओं की शुरुआत की। आज प्रधानमंत्री जीवन ज्‍योति बीमा योजना के माध्यम से लोगों को मात्र  330 रुपये में  इतने से 2 लाख रुपये का बीमा सुरक्षा मिल रही है। 330 रुपये प्रतिवर्ष, मतलब की एक दिन में एक रुपये से भी कम। इस योजना में अब तक साढ़े पांच करोड़ लोगों ने इसके साथ अपना फायदा उठाया है और मुसीबत में लोगों को करोड़ों रुपयों का क्‍लेम भी मिल चुका है। प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत मात्र 12 रुपये सालाना यानी मात्र एक रुपये प्रतिमाह के प्रीमियम से 2 लाख रुपये का दुर्घटना बीमा कवर मिलता है। अब तक इस योजना को करीब-करीब 13-14 करोड़ से अधिक लोगों ने इसे अपनाया है। इतने कम समय में इतनी भारी संख्‍या में लोगों का इससे जुड़ना ये दिखाता है कि लोगों में बीमा और उसके लाभ को लेकर काफी जागरूकता आई है।”

- Advertisement -
- Advertisement -