सीएम नीतीश कुमार ने फिर कहा- बिहार में ही मिलेगा सबको रोजगार

0
29
ग्रामीण क्षेत्रों में आवास की योजनाओं पर विशेष ध्यान दें। रोजगार सृजन के कार्यों का लगातार अनुश्रवण करते रहें। जिससे अधिक से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध हो सके। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह निर्देश समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों को दिये।
ग्रामीण क्षेत्रों में आवास की योजनाओं पर विशेष ध्यान दें। रोजगार सृजन के कार्यों का लगातार अनुश्रवण करते रहें। जिससे अधिक से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध हो सके। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह निर्देश समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों को दिये।

पटना। सीएम नीतीश कुमार ने फिर कहा है कि बाहर से लौटे सभी प्रवासी मजदूरों को बिहार में ही रोजगार मिलेगा। इसकी व्यवस्था की जा रही है। मुख्यमंत्री ने आज दूसरे दिन भी 20 जिलों के 40 क्वारंटाइन केंद्रों का वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से निरीक्षण किया और वहां रह रहे प्रवासियों से बातचीत की।

नीतीश कुमार ने फिर कहा है कि बाहर से लौटे सभी प्रवासी मजदूरों को बिहार में ही रोजगार मिलेगा। इसकी व्यवस्था की जा रही है। वे क्वारंटाइन केंद्रों का वीसी से मुआयना कर वहां रह रहे प्रवासी मजदूरों से बात कर रहे थे।
नीतीश कुमार ने फिर कहा है कि बाहर से लौटे सभी प्रवासी मजदूरों को बिहार में ही रोजगार मिलेगा। इसकी व्यवस्था की जा रही है। वे क्वारंटाइन केंद्रों का वीसी से मुआयना कर वहां रह रहे प्रवासी मजदूरों से बात कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न क्वारंटाइन केंद्रों का अवलोकन किया। केंद्र में रह रहे प्रवासियों के साथ मुख्यमंत्री ने संवाद भी किया। क्वारंटाइन केन्द्रों पर दी जा रही सुविधाओं से रुबरू हुए। क्वारंटाइन केन्द्र पर शौचालय, पेयजल, रसोई घर, लोगों के रहने की व्यवस्था एवं केन्द्रों की साफ-सफाई का भी बारीकी से अवलोकन किया। मुख्यमंत्री ने कहा- सरकार का संकल्प है कि सभी को बिहार में ही रोजगार उपलब्ध कराया जायेगा।

- Advertisement -

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि क्वारंटाइन केन्द्रों पर आवासित सभी प्रवासियों का पूर्ण सर्वे करायें। कौन कहां से आया है? क्या रोजगार करता था? इसकी रणनीति बनायें कि उनको यहां कैसे रोजगार उपलब्ध कराया जाये, ताकि उन्हें बाहर नहीं जाना पड़े। मुख्यमंत्री ने कहा- हमारा दायित्व है कि सबको रोजगार का अवसर मिले। अपना खुद का व्यवसाय करने वाले को सरकार हर संभव मदद करेगी।

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि प्रवासियों को उनके स्किल के अनुरूप यहीं पर स्वरोजगार के लिये प्रेरित करें। हमारी चाहत है किसी को मजबूरी में बिहार से बाहर नहीं जाना पड़े। बिहार में ही काम के अवसर पैदा किये जायेंगे। विभिन्न उद्योगों के क्लस्टरों की पहचान करें। लोग बाहर जाकर कार्य कर रहे थे। उन्हें वहां कष्ट झेलना पड़ा। हमारी इच्छा है कि आप सब लोग बिहार में ही रहिए। आप सभी लोग बिहार के विकास में भागीदार बनें। किसी को कष्ट न हो, सभी की सुरक्षा हमारा दायित्व है। हम हमेशा आप की ही चिंता करते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा- सूक्ष्म एवं लघु उद्योग को बढ़ावा दें, बिहार में इनकी असीम संभावनाएं हैं। मुजफ्फरपुर क्षेत्र में चमड़ा, जूता उद्योग तथा कपड़ा उद्योग की अपार संभावनाएं हैं। इनसे संबंधित उद्योग को बढ़ावा देने के लिये हर संभव मदद करें। बाहर से आ रहे प्रवासी, जो बिजली के कार्य में दक्ष हैं, उन्हें रोजगार उपलब्ध कराने की दिशा में बिहार राज्य पावर होल्डिंग कम्पनी लिमिटेड कार्रवाई करे।

यह भी पढ़ेंः भारत सरकार के आर्थिक पैकेज पर नीतीश ने किया विचार-विमर्श

क्वारंटाइन केन्द्रों में रह रहे लोगों को सीएम नीतीश कुमार ने कहा- आप लोगों के हित में क्वारंटाइन केंद्रों का इंतजाम किया गया है। 14 दिन क्वारंटाइन में रहकर खुशी-खुशी घर जाइए। यह आपके और आपके परिवार के स्वास्थ्य के लिये आवश्यक है। सभी लोग सोशल डिस्टेंसिंग का करें पालन। कोरोना से बचाव का यही है प्रभावी उपाय है। मुख्यमंत्री ने कहा- क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे प्रवासी, जिनका बिहार के किसी भी बैंक में खाता नहीं हो, उनका खाता खुलवाना सुनिश्चित करें। जिनका आधार एवं राशन कार्ड नहीं बना है, उनका अविलंब राशन कार्ड एवं आधार कार्ड बनवायें।

क्वारंटाइन केन्द्रों में रह रहे प्रवासियों ने वहां की गयी व्यवस्थाओं को सराहा। सभी ने कहा कि उन्हें किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है और वे लोग अब बिहार में ही रह कर काम करना चाहते हैं।

यह भी पढ़ेंः कोविड, ए.ई.एस. व जे.ई. से बचाव को लेकर नीतीश ने दिये निर्देश

- Advertisement -