संथाल की आदिवासी महिलाओं को गुमराह किया गया: रघुवर

0
38
पाकुड़ में सखी मंडल की सदस्यों से मिले मुख्यमंत्री रघुवर दास, कहा- आपकी भूमिका राज्य के विकास में अहम है। आप बहनें आदिवासी गांव की महिलाओं को विकास के लिए जागरूक करें
पाकुड़ में सखी मंडल की सदस्यों से मिले मुख्यमंत्री रघुवर दास, कहा- आपकी भूमिका राज्य के विकास में अहम है। आप बहनें आदिवासी गांव की महिलाओं को विकास के लिए जागरूक करें

पाकुड़। संथाल परगना की महिलाओं को गुमराह किया गया। यह बात झारखंड के सीएम रघुवर दास ने कही। उन्होंने कहा कि अपने हिस्से की जिम्मेवारी का निर्वहन ईमानदारी से करें। समर्पण भाव से करें। रोशनी सखी मंडल ग्रुप की बहनों को बधाई। यह जानकर अच्छा लगा कि कपड़े का बैग बनाकर आप आर्थिक रूप से सशक्त हो रही हैं। सरकार द्वारा आपके सशक्तीकरण के लिए किया जा रहा कार्य अब नजर आ रहा है।

यह भी पढ़ेंः संथाल को विकास से दूर करने वालों का 500 करोड़ की ज़मीन पर है कब्जा- रघुवर

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि 2014 तक राज्य में मात्र 43 हजार सखी मंडल का गठन हुआ था। अब 2019 में यह संख्या बढ़कर करीब 2 लाख 17 हजार से अधिक  हो गयी है। 28 लाख से अधिक आप बहनें इससे जुड़ी हुई हैं। यह सब आपको स्वरोजगार से जोड़ने और आर्थिक रूप से मजबूत करने के उद्देश्य से ही हमने यह किया है। ये बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने पाकुड़ परिसदन में सखी मंडल की महिलाओं से मुलाकात के दौरान कहीं।

यह भी पढ़ेंः बेटियों के लिए मुख्यमंत्री रघुवर की राय- पहले पढ़ाई, फिर विदाई

संथाल परगना के लोग सालों से गुमराह हुए, अब हुआ विकास 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोगों ने स्वार्थवश संथाल परगना की महिलाओं और पुरुषों को गुमराह कर इस क्षेत्र को विकास में पीछे छोड़ दिया। अब यह युग विकास का युग है। आप गुमराह हुए जन जन तक जाकर सरकार की विकासपरक मंशा, नीति और नीयत की जानकारी दें।

यह भी पढ़ेंः झारखंड की बेटियों को मुख्यमंत्री सुकन्या योजना का लाभ जरूर मिले 

जब गांव का एक एक व्यक्ति जागेगा और विकास का महत्व समझेगा तभी देश, राज्य, समाज और परिवार का विकास व आर्थिक उन्नयन संभव होगा। इसलिए अपने हिस्से की जिम्मेवारी का निर्वहन हम सभी को करना चाहिए।

यह भी पढ़ेंः यातायात नियमों का पालन डर से नहीं, अच्छे नागरिक के नाते करें

- Advertisement -