वाराणसी के शहरी क्षेत्र में 1900 बच्चे लाल श्रेणी में चिन्हित

0
25
वाराणसी के शहरी क्षेत्र में 1900 लाल श्रेणी के चिन्हित बच्चे हैं। उनके बीच विशेष आहार का वितरण कराया जा रहा है। सामाजिक संस्था कुटुम्ब इसमें सहयोगी है।
वाराणसी के शहरी क्षेत्र में 1900 लाल श्रेणी के चिन्हित बच्चे हैं। उनके बीच विशेष आहार का वितरण कराया जा रहा है। सामाजिक संस्था कुटुम्ब इसमें सहयोगी है।

वाराणसी। वाराणसी के शहरी क्षेत्र में 1900 लाल श्रेणी के चिन्हित बच्चे हैं। उनके बीच विशेष आहार का वितरण कराया जा रहा है। सामाजिक संस्था कुटुम्ब इसमें सहयोगी है। इसी क्रम में आंगनबाड़ी केंद्र में कुपोषित बच्चों में विशेष आहार का वितरण किया गया। बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार (आईसीडीएस) विभाग के तहत नगर क्षेत्र के वार्ड सिकरौल के आंगनबाड़ी केंद्र में कुपोषित बच्चों को विशेष आहार वितरित किया गया।

एक विशेष अभियान के तहत जनपद वाराणसी के शहरी क्षेत्र में 1900 चिन्हित लाल श्रेणी कुपोषित बच्चों को विशेष आहार दिया जा रहा है। इस दौरान सोशल डिस्टैंसिंग का भी ध्यान रखा जा रहा है। आहार वितरण के वक्त वहाँ मौजूद नगरीय बाल विकास परियोजना अधिकारी मनोज कुमार गौतम ने बताया कि मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुलगी की अनुमति व मार्गदर्शन से इस अभियान की शुरुआत की गयी है। इस अभियान में आईसीडीएस विभाग के साथ कार्य कर रही कुटुम्ब संस्था मुख्य रूप से सहयोग दे रही है, जो विगत 17 वर्षों से वाराणसी में बच्चों और समुदाय के बेहतर स्वास्थ्य के लिए कार्य कर रही है।

- Advertisement -

कुटुम्ब संस्था के सचिव डॉक्टर आशीष ने बताया कि यह पोषक आहार गुड़गांव की एक निजी कंपनी (कंपैक्ट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड) ने विशेष रूप से दान किया है, ताकि लॉक डाउन के समय कुपोषित बच्चों को मदद मिल सके। लॉक डाउन के वक़्त यह पहल सैकड़ों कुपोषित बच्चों के लिए बहुत सहायक साबित होगी और उन्हें कुपोषण के चक्र से निकलने में मदद मिलेगी।

इस अवसर पर टाटा ट्रस्ट के भारत प्रेरक प्रदीप कुमार एवं आईसीडीएस की मुख्य सेविका किरण लता के साथ सभासद दिनेश यादव एवं समस्त क्षेत्रीय आगनबाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित रहीं।

यह भी पढ़ेंः प्रतिरोधक क्षमता बनी रहे, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पहुंचा रहीं पुष्टाहार

यह भी पढ़ेंः लाक डाउन के बावजूद बिहार में 10 हजार से अधिक मजदूर काम पर

यह भी पढ़ेंः झारखंड में राशन कार्ड जिनके पास नहीं, उन्हें भी मिलेगा अनाज

- Advertisement -