मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का वादा- प्रवासियों को हर हाल में लाएंगे

0
215
CM हेमंत सोरेन का संकल्प है कि राज्य सरकार श्रमिकों के अधिकार से समझौता नहीं करेगी। CM हेमंत सोरेन ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।
CM हेमंत सोरेन का संकल्प है कि राज्य सरकार श्रमिकों के अधिकार से समझौता नहीं करेगी। CM हेमंत सोरेन ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।

रांची। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने वादा किया है कि झारखंड के प्रवासियों को हर हाल में लाएंगे। जो आ रहे हैं, उन्हें गले लगाएंगे और स्वस्थ भी बनाएंगे। विभिन्न राज्यों में फंसे छात्रों और प्रवासी श्रमिकों को अब राज्य सरकार झारखंड वापस लाएगी। इस निमित्त तैयारी शुरू कर दी गई है। सभी जनप्रतिनिधियों से आग्रह है कि आप सुझाव दें, ताकि फंसे लोगों को वापस लाया जा सके। सरकार ने इसके लिए नोडल पदाधिकारियों को नियुक्त किया है। फंसे लोगों को पूरी सतर्कता से सभी को वापस लाना है।

साथ ही कोरोना संक्रमण को भी हराना है। हर हाल में सरकार फंसे मजदूरों को लाएगी। सभी जनप्रतिनिधि उन्हें आश्वस्त करें। श्रमिक भाई अपना धैर्य बनाएं रखें। विभिन्न बड़ी सामाजिक संस्थाओं की मदद से श्रमिक भाइयों तक सरकार पहुंच रही है। ये बातें मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कोरोना वायरस संक्रमण के संदर्भ में कोल्हान एवं पलामू प्रमंडल के सांसदों और विधायकों के साथ गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत के क्रम में कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे राज्य में कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे चिकित्सकों, स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिसकर्मियों, पंचायतीराज व्यवस्था के प्रतिनिधियों, सामाजिक संगठनों का कार्य सराहनीय है।

- Advertisement -

श्रमिकों के लिए होगी रोजगार की व्यवस्था

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि विभिन्न राज्यों से आ रहे श्रमिक भाइयों के लिए राज्य सरकार रोजगार की व्यवस्था का प्रयास करेगी। इसके लिए सरकार कार्य योजना तैयार कर रही है। जल्द कार्य योजना धरातल पर उतरेगी। सरकार मनरेगा पर नया गाइडलाइन लाने की तैयारी में जुटी है, ताकि अधिक रोजगार का सृजन हो सके। श्रमिकों को उनके गांव में ही रोजगार मिलेगा।

फसलों को नुकसान हुआ है तो राहत भी देंगे

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि मौसम की वजह से किसानों की फसलों का जो नुकसान हुआ है, उसके आकलन का निदेश दिया गया है। आपदा प्रबंधन के तहत फसलों के नुकसान की भरपाई राज्य सरकार करेगी। जहां तक किसानों को लैम्पस के माध्यम से धान की राशि के भुगतान की बात है तो किसानों को भुगतान किया जा रहा है।

टीकाकरण न रुके, सभी को आनाज मिले

मुख्यमंत्री ने जनप्रतिनिधियों ने आग्रह किया कि लॉक डाउन में टीकाकरण कार्य नहीं रुके। बच्चों का टीकाकरण होता रहे। हमें बच्चों एवं बुजुर्गों पर विशेष ध्यान देना है। सभी जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र के पंचायत स्तर के जनप्रतिनिधियों को जागरूक करें, ताकि राशन वितरण के समय वे ग्रामीणों के साथ उपस्थित रह सभी को आनाज मिले, यह सुनिश्चित कर सकें। सभी को आनाज देना सरकार का दायित्व है।

यह भी पढ़ेंः झारखंड के लिए गुड न्यूज- कोरोना पॉजिटिव 4 लोग स्वस्थ हुए

संक्रमण रोकने में सामाजिक स्तंभ की बड़ी भूमिका होगी

मुख्यमंत्री हेमंत ने कहा कि बाहर से अपने गांव लौट रहे लोगों के लिए सामाजिक पुलिसिंग को सार्थक करना है। क्योंकि बाहर से आनेवाले लोगों में संक्रमण की संभावना हो सकती है। इससे घबराने की आवश्यकता नहीं। सरकार पूरी तरह से सचेत है। इस कार्य में सामाजिक स्तंभ की बड़ी भूमिका होगी। जनप्रतिनिधि अपने स्तर से बाहर से आनेवाले लोगों की पहचान कर प्रशासन को सूचित करें, जिससे संक्रमण के फैलाव को रोका जा सके। सामाजिक व्यवस्था को जागृत करने की आवश्यकता है।

क्या कहा सांसदों एवं विधायकों ने

  • जमशेदपुर पूर्वी विधायक सरयू राय ने मुख्यमंत्री को बताया कि जमशेदपुर प्रशासन बेहतर कार्य कर रहा है। बाहर फंसे छात्रों और श्रमिकों को लाने हेतु केंद्र सरकार राज्य सरकार को अपना सहयोग दे। सभी मिलकर कार्य करेंगे तो बेहतर परिणाम सामने आएगा। यह समय आलोचना का नहीं। युद्ध की स्थिति है। जहां कमी है, उसे पूरा किया जाए।
  • जमशेदपुर सांसद विद्युत वरण महतो ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना संक्रमण के विरुद्ध बेहतर लड़ाई लड़ रही है। महतो ने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि सरकार राज्य के बाहर फंसे श्रमिकों को लाने का कार्य जल्द शुरू करे तो बेहतर होगा।
  • विधायक दशरथ गगराई ने कहा कि क्षेत्र में अभी तक एक भी संक्रमण का मामला नहीं आया है। सरायकेला खरसांवा में लॉक डाउन के दरम्यान सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं का लाभ जरूरतमंदों को मिल रहा है।
  • चाईबासा विधायक दीपक बिरुवा ने कहा कि राज्य के अंदर जो लोग फंसे हैं, उन्हें अपने गृह जिला लाने की व्यवस्था होनी चाहिए। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे लोगों को आवागमन की इजाजत मिलेगी। यह व्यवस्था सिर्फ राज्य के अंदर लागू होगी।
  • विश्रामपुर विधायक रामचन्द्र चंद्रवंशी ने मुख्यमंत्री ने आग्रह किया कि क्षेत्र के कई लोग राज्य से बाहर फंसे हैं। उन्हें वापस लाना बेहद जरूरी है।
  • गढ़वा विधायक सह पेयजल मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा कि राज्य में कहीं भी अगर खराब चापानल की शिकायत मिलती है तो उसे तीन दिन में ठीक करने का निदेश दिया गया है। ऐसा नहीं होने पर संबंधित अभियंता जिम्मेदार होंगे। गढ़वा में संक्रमण की रोकथाम हेतु सामाजिक दूरी व अन्य निर्देशों का पालन सुनिश्चित किया जा रहा है।
  • लातेहार विधायक बैजनाथ राम ने कहा कि विभिन्न राज्यों में इलाज कराने गए मरीजों को भी वापस लाना है। लातेहार में अच्छी स्थिति है। टीम भावना से कार्य हो रहा है।

यह भी पढ़ेंः हेमंत ने कहा- किसानों और युवाओं के लिए सरकार कृतसंकल्पित

- Advertisement -