मास्क लगाए बिना DM ने की बैठक की, उड़ाई निर्देश की धज्जियां

0
81
मास्क लगाए बिना नवादा के DM यशपाल मीणा ने बैठक की। यह केंद्रीय गृह मंत्रालय और बिहार सरकार के निर्देशों का सरासर उल्लंघन है।
मास्क लगाए बिना नवादा के DM यशपाल मीणा ने बैठक की। यह केंद्रीय गृह मंत्रालय और बिहार सरकार के निर्देशों का सरासर उल्लंघन है।

नवादा (बिहार)। मास्क लगाए बिना नवादा के DM यशपाल मीणा ने बैठक की। यह केंद्रीय गृह मंत्रालय और बिहार सरकार के निर्देशों का सरासर उल्लंघन है। नवादा के DM यशपाल मीणा ने कोरोना सहित बरसाती रोगों के निदान को ले समाहरणालय स्थित अपने कार्यालय कक्ष में शनिवार को स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में स्वास्थ्य महकमे के लोग तो मास्क में दिखे, लेकिन DM के चेहरो पर मास्क नहीं था।

जन चेतना मंच और समाजवादी फोरम से जुड़े नेता अनिल प्रसाद सिंह, उदय शंकर, मोसाफिर कुशवाहा ने केंद्रीय गृह मंत्री व बिहार के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर DM यशपाल मीणा के बैठक में मास्क नहीं लगाने को सरकारी निर्देशों की अवहेलना का आरोप लगाया है। इस मामले में उनके के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है।

- Advertisement -

अनलॉक के बावजूद गृह मंत्रालय के जारी निर्देशों में साफ तौर पर कहा गया है कि घर से बाहर कोई भी व्यक्ति बगैर मास्क लगाए नहीं निकल सकता। मास्क लगाना व सामाजिक दूरी का पालन करना कोरोना से बचाव का सबसे बड़ा माध्यम बताया  गया है। इसका पालन हर हाल में करने की बात कही गयी है।

नवादा के डीएम यशपाल मीणा ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक में बिना मास्क लगाए अधिकारियों को संबोधित किया। इस बैठक में शामिल सभी अधिकारी मास्क लगाए बैठे थे। अगर डीएम ही इस कदर केंद्रीय गृह मंत्रालय और राज्य सरकार के निर्देशों की धज्जियां उड़ाने लगेंगे तो अन्य लोगों का क्या हाल होगा।

जिले का अगुआ माना जाने वाला जिला प्रशासन का मुखिया ही अगर सरकारी निर्देशों के पालन में उदासीन रहेंगा, तो आम लोगों से कानून और सरकारी निर्देशों का पालन कैसे कराया जा सकेगा। निश्चित तौर पर डीएम के इस आचरण पर कार्रवाई होनी चाहिए। शनिवार को बगैर मास्क लगाए ही डीएम यशपाल मीणा ने अपने कार्यालय कक्ष में अधिकारियों के साथ बैठक की।

सबसे दुर्भाग्यजनक बात तो यह है कि डीएम जैसे सरकारी अधिकारी भी अपने आप को नियम कानून से ऊपर समझने लगे हैं। यही सबसे बड़ा कारण है कि आम लोग भी नियम-कानून का पालन करने में ढिलाई बरत रहे  हैं। नियमों का सही से पालन नहीं किये जाने के कारण ही जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है और गंभीर स्थिति पैदा हो गयी है।

यह भी पढ़ेंः अमित शाह आज रांची में, कल पहुंचेंगे पटना, सुलझायेंगे पेंच

- Advertisement -