बिहार में फिर सामने आया पकड़ौआ विवाह का मामला

0
320

गया : बिहार का गया जिला जहां बौद्ध एवं जैन धर्म की तीर्थ स्थली के रूप में विख्यात है, वहीं संगठित अपराध के क्षेत्र में भी मीडिया की सुर्खियां बटोरने में पीछे नहीं है। नक्सली हिंसा एवं अपराधी गिरोह की घटनाएं भी प्रशासन की नींद में यदा-कदा खलल डालते हुए अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में भी पीछे नहीं हैं ।अपराध की अनेक विधाओं में पकड़ुआ शादी ( जिसमें शादी  योग्य लड़के का अपहरण करके उसकी जबरन शादी करवाई जाती है )की भी घटनाएं इन अपराधों में शामिल हैं। पकड़ुआ शादी एक ऐसा अपराध है, जिसमें अपराधियों के संरक्षण में दूल्हे का अपहरण करते हुए लड़की की शादी करा दी जाती है तथा शादी के बाद इन्हें जबरदस्ती पति-पत्नी के रूप में रहने का दबाव बनाया जाता है।

- Advertisement -

जब मामला आया सामने

गया जिला के प्रभु बीघा गांव, जो मानपुर थाना के अंतर्गत आता है, में पकड़ुआ शादी का एक मामला मामला संज्ञान में आया है। इस गांव के स्व. बाल सुग्रीव के पुत्र सिद्धार्थ चौहान की शादी जबरन एक परित्यक्ता के साथ इसी साल 13 जून को करा दी गई। इसके बाद लड़की को जबरन उसके साथ रहने को मजबूर किया जा रहा है। अभी तक लड़की शादी के बाद अपने मायके में ही रह रही थी। मामला पुलिस के संज्ञान में है, लेकिन उक्त मामले में वह मूकदर्शक बनी हुई है।

- Advertisement -