बिहार के लोग, जो बाहर फंसे हुए हैं, उनकी परेशानियों दूर करें

0
90
बिहार के लोग, जो बाहर फंसे हुए हैं, उनसे फीडबैक लेकर उनकी परेशानियों दूर करें। जो घर आ गये हैं, उनकी पहचान कर टेस्ट करायें और जरूरी मदद करें। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थितियों की समीक्षा के दौरान ये निर्देश दिये।
नीतीश कुमार

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने की समीक्षा, अफसरों को दिये निर्देश

पटना। बिहार के लोग, जो बाहर फंसे हुए हैं, उनसे फीडबैक लेकर उनकी परेशानियों दूर करें। जो घर आ गये हैं, उनकी पहचान कर टेस्ट करायें और जरूरी मदद करें। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थितियों की समीक्षा के दौरान ये निर्देश दिये।

यह भी पढ़ेंः केंद्र सरकार की मानें तो लॉक डाउन की मियाद नहीं बढ़ेगी

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि बाहर से आये हुए लोगों की स्क्रीनिंग, भोजन, आवासन, चिकित्सीय सुविधा की समुचित व्यवस्था की गयी है। संक्रमित मरीजों के सम्पर्क में आने वाले संदिग्धों की गहन ट्रैकिंग करने एवं टेस्टिंग में तेजी लाने के निर्देश भी मुख्यमंत्री ने दिये। नीतीश ने अपने आवास पर उच्चस्तरीय बैठक की। बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के जो लोग बाहर फंसे हुए हैं, उन्हें होने वाली समस्याओं का निदान करें।

मुख्यमंत्री आवास के दूरभाष, स्थानिक आयुक्त के हेल्पलाइन नंबर तथा आपदा प्रबंधन विभाग के हेल्पलाइन नम्बर पर फंसे हुए लोगों से प्राप्त सूचनाओं के संबंध में उन्होंने गहन समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को निर्देश दिया कि ऐसे लोगों को वापस फोन कर उनकी समस्याओं और उन्हें प्राप्त होने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी ली जाये तथा उन्हें जो भी समस्याएं हो रही हैं, उनके समाधान हेतु अविलंब कार्रवाई करते हुए उन्हें सहायता उपलब्ध करायी जाये।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी सूचनादाताओं से उनका फीडबैक प्राप्त किया जाये तथा प्राप्त फीडबैक के आधार पर त्वरित कार्रवाई करते हुए बाहर फंसे हुए लोगों की परेशानियों को अविलंब दूर करना सुनिश्चित किया जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग बाहर से बिहार आ गये हैं, उनकी स्क्रीनिंग, भोजन, आवासन की व्यवस्था के साथ-साथ उन्हें चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध करायी जाये तथा इस क्रम में निर्धारित प्रोटोकाल का पालन किया जाये। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि यह सुनिश्चित किया जाये कि उन्हें किसी तरह की समस्या न हो।

बैठक में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि कोरोना के संक्रमित मरीजों के सम्पर्क में आने वाले संदिग्ध लोगों की गहन ट्रैकिंग करायी जाये तथा उनकी सघन टेस्टिंग करायी जाये। इसके लिये आवश्यक उपकरण, टेस्टिंग किट एवं अन्य आवश्यक सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाये। बैठक में बर्ड फ्लू एवं स्वाइन फ्लू को लेकर भी समीक्षा की गयी। मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को निर्देश दिया कि बर्ड फ्लू एवं स्वाइन फ्लू की स्थिति का भी लगातार अनुश्रवण करते हुये आवश्यक कदम उठाना सुनिश्चित करें।

ए0ई0एस0 की समीक्षा के क्रम में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि एक्यूट इन्सेफ्लाइटिस सिंड्रोम (ए0ई0एस0) के संदर्भ में अभी से ही पूरी तैयारी रखी जाय। ए0ई0एस0 प्रभावित संभावित क्षेत्रों में सभी प्रकार के सुरक्षात्मक उपाय करें एवं जागरूकता फैलाना सुनिश्चित करें तथा वहाॅ सम्पूर्ण स्वच्छता का ध्यान रखें। मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की कि कोरोना संक्रमण की गंभीरता को देखते हुये प्रत्येक व्यक्ति सचेत रहें। लोगों को पैनिक होने की जरूरत नहीं है। इसके लिये जो जहाॅ हैं, सोशल डिस्टेंसिंग को अपनायें। आप सब लोग अपने घर के अंदर रहें, अनावश्यक रूप से बाहर न निकलें। किसी को भी समस्या नहीं होने दी जायेगी। मुझे पूरा विश्वास है कि आप सभी के सहयोग से हम सब मिलकर इस चुनौती का सफलतापूर्वक सामना करने में सक्षम होंगे।

यह भी पढ़ेंः उत्तर प्रदेश सरकार ने मनरेगा मजदूरों के खाते में डाले 611 करोड़

- Advertisement -