बिहार के पथ-पुल निर्माण की कई योजनाओं पर केंद्र की सहमति

0
168
केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडककी समीक्रीषा बैठक में बिहार के पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव
  • पटना में महात्मा गांधी के समानांतर 4 लेन पुल की निविदा 15 दिन में
  • कोसी नदी पर फुलौत घाट में 4 लेन पुल की निविदा अगस्त माह में
  • विक्रमशिला पुल के समानांतर पुल के लिए स्थल का अध्ययन शीघ्र
  • औरंगाबाद-दरभंगा वाया पटना एक्सप्रेस के एलाइनमेंट को मिली मंजूरी
  • आरा-मोहनिया रोड को 4 लेन करने को केंद्र सरकार से मिली मंजूरी
  • दिघवारा-शेरपुर के बीच गंगा नदी पर पुल निर्माण की सहमति

पटना। बिहार के पथ-पुल निर्माण की कई योजनाओं पर केंद्र की सहमतिमिल गयी है। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री सहमति दी है। बिहार के पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव ने कहा है कि केन्द्र सरकार ने बिहार में राष्ट्रीय राजमार्गों के नेटवर्क में विस्तार और नदियों पर बनने वाले पुल की आधारभूत संरचना के तीव्र गति से निर्माण के प्रति सहमति जताते हुए तेज गति से कार्य करने का निदेश दिया है।

श्री यादव ने बताया कि आज केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी के साथ बिहार में सड़कों के विकास की विविध योजनाओं पर दिल्ली में बैठक हुई। बैठक में पथ निर्माण विभाग, बिहार के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा, विषेष सचिव देवेश सेहरा एवं केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय तथा भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के वरीय अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में पटना में गंगा नदी पर महात्मा गांधी सेतु के समानांतर 4 लेन के निर्माण के लिए अगले 15 दिनों के भीतर निविदा जारी कर देने का निर्णय हुआ। इसकी निर्माण लागत 2900 करोड़ रुपये है। राज्य सरकार ने इसके लिए भूमि की व्यवस्था कर दी है।

- Advertisement -

इसी प्रकार कोसी नदी पर फुलौत घाट पर निर्मित होने वाले 4 लेन का टेंडर अगस्त माह में जारी करने का निर्णय किया गया। 1700 करोड़ की लागत से बनने वाले इस पुल से बिहपुर-वीरपुर की कनेक्टिीविटी स्थापित होगी। भागलपुर में गंगा नदी पर विक्रमशिला सेतु के समांतर 4 लेन पुल के निर्माण के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की टीम 15 दिनों में स्थल अध्ययन करेगी और उसके बाद निविदा की कार्रवाई होगी। राज्य सरकार अपने संसाधन से भू-अर्जन कर रही है। इसमें नवगछिया-भागलपुर होते हुए झारखण्ड की सीमा हंसडीहा तक का पथांश 4 लेन का होगा।

पटना रिंग रोड के अंतर्गत प्रथम चरण में कन्हौली से लखना तक एवं गंगा नदी पर दिघवारा से शेरपुर के बीच पुल निर्माण का कार्य करने पर सहमति बनी। इसके लिए राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा डीपीआर बनाया जा रहा है। श्री यादव ने कहा कि बिहार राज्य के लिए घोषित प्रधानमंत्री के विशेष पैकेज में सात नई परियोजनाओं को राष्ट्रीय उच्च पथ अधिसूचित किया गया है एवं डीपीआर भारत सरकार को समर्पित किया गया है। निर्णय लिया गया कि इस डीपीआर की शीघ्र स्वीकृति जारी की जायेगी। ये पथ हैं- भागलपुर-हंसडीहा-4 लेन, समस्तीपुर-दरभंगा-4 लेन, रोसड़ा-दरभंगा- (दस मीटर चैड़ाई), हाजीपुर-बछबाड़ा- (दस मीटर चौड़ाई), बक्सर-चौसा-मोहनियां- 10 मीटर चैड़ाई, श्रवण-चकाई- (दस मीटर चैड़ाई), सरायगढ़-गणपतगंज- (दस मीटर चौड़ाई)।

बैठक में हुए निर्णयों की जानकारी देते हुए श्री यादव ने बताया कि एन.एच-527सी (मंझौल-चिरौत) की निविदा प्रक्रिया पूर्ण हो चुकी है। एन.एच.ए.आई द्वारा 10 मीटर चौड़े पथ का निर्माण शीघ्र क्रियान्वित किया जायेगा। औरंगाबाद-दरभंगा वाया पटना, एक्सप्रेस पथ के एलाइनमेंट की स्वीकृति प्रदान की गयी है। एन.एच.ए.आई द्वारा शीघ्र ही भू-अर्जन की कार्रवाई प्रारम्भ की जायेगी। रजौली-बख्तियारपुर पथ के 4 लेन चौड़ीकरण के लिए 7 स्थानों पर एलिवेटेड रोड का प्रावधान के साथ अग्रेत्तर कार्रवाई आरम्भ करने का निर्णय लिया गया। आरा-मोहनिया पथ का रख-रखाव कार्य लगभग पूर्ण हो गया है उसको 4 लेन चौड़ीकरण करने का निर्णय लिया गया है।

श्री गडकरी ने सभी योजनाओं को तेजी से पूर्ण करने की आवश्यकता पर बल देते हुए हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया है। उन्होंने यह भी अनुरोध किया कि भू-अर्जन के लंबित कार्यों को  जल्दी-से-जल्दी पूरा किया जाये। बिहार के पथ निर्माण मंत्री श्री यादव ने राज्य के पथ एवं पुल के आधारभूत ढांचे के विकास के लिए भारत सरकार के सहयोग के लिए बैठक में विशेष आभार व्यक्त किया है।

- Advertisement -