बाढ़ पर राजनीति के बजाय, जनता की मदद करे विपक्ष: BJP

0
31
बीजेपी ने आरजेडी से पूछा है कि उसके नेता तेजस्वी यादव इन दिनों कहां हैं। वे देश में हैं या विदेश, आरजेडी को पहले यह बताना चाहिए।
बीजेपी ने आरजेडी से पूछा है कि उसके नेता तेजस्वी यादव इन दिनों कहां हैं। वे देश में हैं या विदेश, आरजेडी को पहले यह बताना चाहिए।

पटना। बाढ़ पर राजनीति के बजाय, जनता की मदद करे विपक्ष। विपक्ष पर खुल कर हमला बोला है BJP के बिहार प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक राजीव रंजन का। उन्होंने विपक्षी दलों को निशाने पर लेते हुए कहा कि दुनिया के किसी देश या राज्य में किसी तरह की आपदा आने पर जहां सभी राजनीतिक दल आपसी भेदभाव भूल कर, पूरी एकजुटता के साथ उसका मुकाबला करते हैं, वहीँ बिहार की विपक्षी पार्टियां इसके ठीक उलट, आपदा को अपनी राजनीति चमकाने का जरिया मान लेती हैं।

यह भी पढ़ेंः गृह विभाग ने ADG से पूछा, किसके कहने पर करायी RSS की जांच

- Advertisement -

यह भी पढ़ेंः All Is Not Well In Bihar NDA, नीतीश करा रहे RSS की जांच

उन्हेंने कहा कि याद करें तो दो साल पहले आयी भीषण बाढ़ में भी इनका यही रवैया था। उस समय जहां एनडीए के नेता राहत सामग्री का इंतजाम, वितरण तथा अन्य जमीनी कार्यों में जनता के साथ दिन-रात एक किए हुए थे, वहीँ अपने शासकीय समय में राहत कार्यों में भी घोटाले करने वाले हमारे विपक्षी नेता अपने फाइव स्टार कमरों में बैठ खोखली बयानबाजी कर रहे थे। यहाँ तक कि इनके युवराजों को पानी उतरने के बाद क्षेत्र में जाने की याद आयी थी।

यह भी पढ़ेंः दोषी लड़की को अदालत की अनोखी सजा, 5 बच्चियों को पढ़ाओ

इस बार भी ये तमाम विपक्षी दल उसी ढर्रे पर आगे बढ़ रहे हैं। इस बार भी इनके नेताओं के दर्शन क्षेत्र में जनता के बीच नहीं, बल्कि सिर्फ कैमरे और अखबारों में हो रहे हैं। राहत कार्यों में सहयोग करने के बजाय इनके बयान बहादुर नेता इंतजामों में मीन मेख निकालने की कोशिश कर रहे हैं। इन्हें हमारी सलाह है कि राहत कार्यों में सरकार का सहयोग करें, नहीं तो जनता उन्हें फिर एक बार जरुर सबक सिखाएगी।

यह भी पढ़ेंः नीतीश कुमार व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय का गुणगान कर रहा एक पत्रकार

श्री रंजन ने आगे कहा कि बिहार वासियों को बाढ़ के प्रकोप से बचाने के लिए राज्य सरकार पूरी मुस्तैदी से काम कर रही है। याद करें तो सामान्यत: बिहार में अगस्त महीने में ही नदियाँ विकराल रूप धारण करती हैं, लेकिन इस बार राज्य सरकार ने दो महीने पहले से ही इससे बचाव के इंतजामों पर काम करना शुरू कर दिया है। यह सरकार की तत्परता का ही परिणाम है कि इतने कम समय में ही बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में अभी तक 199 राहत केंद्र खोले जा चुके हैं, जिनमें 1 लाख से अधिक लोग शरण लिए हुए हैं। इनके भरण-पोषण के लिए 676 सामुदायिक रसोई घरों को खोलने के निर्देश जारी किए जा चुके हैं। राहत एवं बचाव कार्यों के लिए 796 मानव तथा 125 मोटरबोट तथा एसडीआरएफ़ और एनडीआरएफ की 26 टुकड़ियां तैनात की जा चुकी हैं। आवश्यक दवाओं का वितरण तथा पशुओं के लिए चारे का इंतजाम भी किया जा रहा है।

यह भी पढ़ेंः देख तेरे संसार की हालत क्या हो गयी भगवान…गीत और हामिद

यह भी पढ़ेंः आना मेरी जान संडे के संडे…गाना सुनें तो दुलारी जरूर दिख जाएंगी

यह भी पढ़ेंः स्वच्छता व विनम्रता के मूलमंत्र के साथ देवघर मेले का शुभारंभ

- Advertisement -