बंगाल बीजेपी में सब पर भारी पड़ रहे शुभेंदु अधिकारी

0
429
मंदिर में माथा नवा कर शुभेंदु अधिकारी ने नोमिनेशन फाइल किया। शुभेंदु अधिकारी नंदीग्राम में ममता बनर्जी केे खिलाफ भाजपा के उम्मीदवार हैं।
मंदिर में माथा नवा कर शुभेंदु अधिकारी ने नोमिनेशन फाइल किया। शुभेंदु अधिकारी नंदीग्राम में ममता बनर्जी केे खिलाफ भाजपा के उम्मीदवार हैं।
  • डी. कृष्ण राव

कोलकाता। बंगाल बीजेपी में सब पर भारी पड़ रहे शुभेंदु अधिकारी। वेस्ट बंगाल असेंबली इलेक्शन में नवागतों में शुभेंदु अधिकारी के साथ राजीव बनर्जी का भी कद बढ़ा है। जेपी में सबसे ताकतवर नेता के रूप में उभरे हैं टीएमसी से आने वाले शुभेंदु अधिकारी। कल दिल्ली में बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष के आवास पर राज्य के नेताओं ने चुनावी रणनीति पर मंथन किया। बैठक में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, दिलीप घोष, शुभेंदु अधिकारी, मुकुल राय और बंगाल बीजेपी के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय शामिल थे। बताया जाता है कि बैठक के दौरान ही शुभेंदु अधिकारी को अमिशाह के दफ्तर से बुलावा आया और दोनों के बीच करीब 45 मिनट तक बातचीत हुई।

अंदर की जानकारी जो छन कर बाहर आयी, उसके मुताबिक बंगाल चुनाव में कामयाबी का जिम्मा शुभेंदु अधिकारी को केंद्रीय नेतृत्व ने सौंपा है। शुभेंदु लगातार अपनी सभाओं में कहते भी रहे हैं कि वे टीएमसी को बंगाल से उखाड़ फेंकेंगे। ममता के घर में घुस कर कमल खिलाएंगे। अब इसको साबित करने का वक्त आ गया है।

- Advertisement -

बैठक में यह भी रणनीति बनी कि नये लोगों को बीजेपी में शामिल कराने को लेकर जो नाराजगी है, उसे स्थानीय स्तर पर ही दूर किया जाये। पुराने कार्यकर्ताओं की नाराजगी के बीच बंगाल भाजपा अब स्थानीय स्तर पर बातचीत के बाद ही नये लोगों को पार्टी में शामिल करने का फैसला करेगी। नये लोगों में जिस तरह शुभेंदु अधिकारी और राजीव बनर्जी को पार्टी ने तरजीह दी है, उससे भीतर ही भीतर बीजेपी में पुराने लोगों की नाराजगी के मद्देनजर केंद्रीय नेतृत्व ने यह निर्णय लिया है।

राजीव बनर्जी के भाजपा में शामिल होने के तीन दिनों के अंदर ही पार्टी की कोर कमिटी में शामिल किया गया है। कल रात दिल्ली में हुई बैठक में भी वे मौजूद थे। राजीव बनर्जी के पार्टी छोड़ने से टीएमसी तिलमिलाई हुई है। बीजेपी राजीव पर भी शुभेंदु की तरह ज्यादा भरोसा कर रही है।

हलदिया में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में 7 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आ रहे हैं। यह सरकारी कार्यक्रम है। इस कार्यक्रम के लिए घाटाल के सांसद व अभिनेता देव (दीपक अधिकारी) व सांसद शिशिर अधिकारी को भी न्यौता गया है। अगर दोनों की उपस्थिति होती है तो इसी बहाने बीजेपी यह संदेश देना चाहेगी कि उसके पास टीएमसी छोड़ कर आने वाले सांसद भी तैयार है। वैसे शिशिर अधिकारी के तेवर पहले से ही बदले हुए हैं। टीएमसी से उनकी नाराजगी इस बात को लेकर है कि उनके परिवार को मीर जाफर की संज्ञा दी गयी। इस बीच तमलुक के टीएमसी सांसद दिव्येन्दु अधिकारी ने मिदनापुर के 8 अस्पतालों के प्रशासनिक पदों से इस्तीफा दे दिया है। रोगी कल्याण समिति के चेयरपर्सन का पद भी उन्होंने छोड़ दिया है। दिव्येन्दु भी शुभेंदु अधिकारी के परिवार से आते हैं।

इधर 30-31 जनवरी को बंगाल दौरा टलने के बाद अमित शाह अब 10 फरवरी को बंगाल की यात्रा पर आएंगे। इस दौरान वे कूचबिहार में बीजेपी की रथयात्रा का शुभारम्भ करेंगे। राज्यभर में रथयात्रा निकालने की बीजेपी की तैयारी है। इसके साथ ही बीजेपी का प्रचार अभियान भी शुरू हो जाएगा। इसलिए कि उम्मीद की जाती है कि 15 फरवरी के पहले ही चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकते है। चुनाव आयोग ने सभी जिला शासकों को 10 फरवरी तक बूथ आधारित रिपोर्ट चुनाव आयोग को भेजने का निर्देश दिया है। ममता बनर्जी ने भी कहा है कि अगले कुछ दिनों में चुनाव की घोषणा हो सकती है।

यह भी पढ़ेंः ममता बनर्जी के घर में फूट पड़ गयी, भाई कार्तिक बने बागी(Opens in a new browser tab)

- Advertisement -